Aapka Rajasthan

Rajasthan Breaking News: बीकानेर कलेक्टर को बाहर निकालने के मामले में आईएएस अधिकारियों में भारी नाराजगी, सीएम गहलोत को लिखी चिट्टी

 

जयपुर न्यूज डेस्क। राजस्थान की बड़ी खबर में आपको बता दें कि ब्यूरोक्रेसी और सरकार के मंत्रियों के बीच टकराव का मामला अब बढ़ता जा रहा है। ताजा मामला बीकानेर के कलेक्टर भगवती लाल कलाल को मंत्री रमेश मीणा के द्वारा भरी सभा से बाहर निकालने के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। इस मामले को लेकर प्रदेश के आईएएस अधिकारियों में भारी रोष देखने को मिला है। बता दे कि गहलोत सरकार के पंचायती राज मंत्री रमेश मीणा ने एक कार्यकम में बीकानेर के कलेक्टर को कार्यक्रम से बाहर निकाल दिया। कलेक्टर को बाहर निकालने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस घटना को लेकर आईएएस असोसिएशन ने विरोध जताया और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चिट्ठी भी लिखी है। 

जयपुर में पाॅम ऑयल से नकली सरसों का तेल बनाने वाली फैक्ट्री सीज, मौके से तेल से भरे हुए 23 पीपे और 6 ड्रम जब्त

01

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार पंचायती राज मंत्री बीकानेर में राजस्थान ग्रामीण विकास परिषद की ओर से आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे। कार्यक्रम में ग्रामीण महिलाओं के विकास और आर्थिक रूप से मजबूत बनाने की बात चल रही थी। कार्यक्रम में सबोधन के दौरान रमेश मीणा सरकारी योजनाओं के बारे में बात कर रहे थे, तभी उन्हें बीकानेर कलेक्टर फोन पर व्यस्त नजर आए। इस पर मंत्री नाराज हो गए और उन्होंने कहा कि आप हमारी बात क्यों नहीं सुन रहे? क्या राज्य में नौकरशाहों का इतना दबदबा है कि वे नहीं सुनेंगे? आप जाइए यहां से। इस पर बीकानेर के कलेक्टर बिना किसी प्रतिक्रिया के वहां से उठ कर चले गए। थोड़ी देर बाद अन्य अधिकारियों ने बीकानेर कलेक्टर को बुल लिया। सोशल मीडिया पर इस घटना का वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। यूजर कमेंट करके आक्रोश जता रहे हैं।

जयपुर में आज कांग्रेस की काॅर्डिनेटर समिति की बैठक, सीएम गहलोत और पायलट लंबे समय बाद आएं नजर

01

बीकानेर कलेक्टर को बाहर निकालने का मामला अब और ज्यादा तूल पकड़ने लगा है। आईएएस एसोसिएशन की आपात साधारण सभा करने और निंदा प्रस्ताव पारित करने की मांग बढ़ती जा रही है। इतना ही नहीं आईएएस एसोसिएशन के साथ अब आईपीएस और आईएफएस एसोसिएशन भी आ गई है। मुख्य सचिव उषा शर्मा से आईएएस एसोसिएशन से हुई मुलाकात में उन्होने बताया कि मंत्रियों का यह व्यवहार अधिकारियों का मनोबल गिराने वाला है।इसे लेकर अधिकारियों में नाराजगी बढ़ती जा रहीं है। एसोसिएशन ने सीएम गहलोत के प्रमुख सचिव कुलदीप रांका से मुलाकात कर इस मामले में कार्रवाई की मांग की है।