Aapka Rajasthan

लंपी वायरस के चलते Dungarpur जिले में 1455 पशुओं की माैत, पशुपालक काे नहीं मिला काेई मुआवजा, पशुपालक अपने पशुओं का 50 हजार रुपए का करा सकेंगे बीमा

 

डूंगरपुर न्यूज़ डेस्क,डूंगरपुर जिले में ढेलेदार वायरस से 1455 पशुओं की मौत हुई है. इससे पशुपालकों को काफी नुकसान हुआ है, क्योंकि पशुपालकों को कोई मुआवजा नहीं मिला है. वायरस के प्रकोप के बाद सरकार जागी है। अब पशुपालक अपने पशुओं का बीमा करा सकेंगे। पशुपालन विभाग ने बीमा कंपनी के साथ एमओयू साइन किया है। खास बात यह है कि तीन साल बाद पशुओं का बीमा कराया जा रहा है। 50 हजार रुपए के बीमा का प्रावधान है।

Rajasthan Breaking News: उपेन यादव की गिरफ्तारी के विरोध में उतरा आरयू छात्रसंघ, निर्मल चौधरी ने किया श्याम नगर थाने का घेराव करने का ऐलान

इसमें एससी, एसटी बीपीएल श्रेणी के पशुपालकों को 70 प्रतिशत और सामान्य वर्ग के पशुपालकों को 50 प्रतिशत की छूट दी जाएगी। पशुधन किसान 1 साल, 2 साल और 3 साल तक का बीमा करवा सकते हैं। इस योजना के तहत दो प्रकार के पशुओं का चयन किया गया है। एक इकाई का अर्थ है एक बड़ा जानवर या 10 छोटे जानवर। एक पशुपालक 5 पशुओं का बीमा करा सकता है। योजना के तहत जिले में गाय-भैंस की बात करें तो इनकी संख्या करीब 7.61 लाख है।

Rajasthan Politics:ओबीसी आरक्षण पर सीएम गहलोत का बड़ा बयान, कहा- किसी भी वर्ग के साथ अन्याय नहीं होने दिया जायेंगा

इसके अलावा अन्य जानवरों की संख्या अलग है। पशुधन बीमा योजना केन्द्र एवं राज्य सरकारों के संयुक्त सहयोग से संचालित की जा रही है। सबसे खास बात यह है कि इस योजना में पशु चारा शामिल नहीं है। वहीं 21 दिन में सर्पदंश से पशु की मृत्यु होने पर बीमा राशि का भुगतान नहीं किया जाएगा अर्थात 21 दिन के बाद ही बीमा कवरेज शुरू होगा.