Aapka Rajasthan
Rajsamand के नाथद्वारा में साल 2023 के अंत तक इंटीग्रेटेड लैब बनकर होगी तैयार, सभी जांचें होंगी एक ही छत के नीचे
 

राजसमंद न्यूज़ डेस्क,सरकारी जिला अस्पताल नाथद्वारा में वर्ष 2023 के अंत तक इंटीग्रेटेड लैब बनकर तैयार हो जाएगी, जहां एक ही छत के नीचे सभी तरह के टेस्ट किए जा सकेंगे. राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित इस लैब को पहले राजसमंद के आरके जिला अस्पताल में बनाया जाना था। लैब के लिए 23 अगस्त को 1.25 करोड़ रुपये का बजट भी स्वीकृत किया गया था। चिकित्सा विभाग के सूत्रों के अनुसार, राज्य में दौसा जिले के लालसोट जिला अस्पताल के साथ-साथ राजसमंद के नाथद्वारा जिला अस्पताल में दो एकीकृत सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयोगशालाओं को मंजूरी दी गई थी। पूर्व-प्रयोग प्रक्रिया के तहत, राज्य सरकार की टीम ने लगभग चार महीने पहले आरके जिला अस्पताल का दौरा किया था। यहां ऑक्सीजन प्लांट के पास की जमीन देखी गई और इसे सैद्धांतिक रूप से मंजूरी भी मिल गई। करीब डेढ़ माह पूर्व यहां फिर चिकित्सा विभाग की टीम आई थी। टीम ने राजसमंद के साथ नाथद्वारा अस्पताल परिसर का भी दौरा किया। वहां नवनिर्मित मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य इकाई में प्रयोगशाला स्थापित करने की स्वीकृति प्रदान की गई है।Rajasthan Breaking News: सालों से मांगे पूरी न होने से नाराज जलदाय विभाग के तकनीकी कर्मचारी, बड़े स्तर पर आंदोलन की दी चेतावनी

मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य इकाई का निर्माण कार्य प्रगति पर है। इस कार्य को पूर्ण करने की अंतिम तिथि जुलाई 2023 निर्धारित की गई है। इसके बाद भवन के प्रथम तल पर एकीकृत प्रयोगशाला स्थापित की जाएगी। राज्य सरकार द्वारा सूचीबद्ध सभी प्रकार के रक्त परीक्षण, RTPCR, TB परीक्षण और अन्य परीक्षण एक ही छत के नीचे किए जाएंगे। सभी प्रकार की जांच के लिए एक ही स्थान पर अलग-अलग ब्लॉक बनाकर सैंपल लिए जाएंगे। लैब में मरीजों के लिए वेटिंग हॉल भी बनाया जाएगा।

Rajasthan Politics: प्रदेश में लंपी वायरस को लेकर सियासत तेज, विधानसभा में लंपी को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने पर भिड़े डोटासरा और गुलाब चंद कटारिया

अगले साल जुलाई तक नए भवन का काम पूरा होते ही एकीकृत प्रयोगशाला स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।
डॉ. कैलाश भारद्वाज, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, जिला अस्पताल, नाथद्वारा