Aapka Rajasthan

Dholpur में सरकार द्वारा समझौते को लागू नहीं करने पर पटवारी संघ ने 24 घंटे का किया धरना प्रदर्शन, मुख्यमंत्री के नाम भेजा ज्ञापन

 

धौलपुर न्यूज़ डेस्क,राजस्थान पटवार संघ के आह्वान पर पिछले 2 दिनों से अनुमंडल के सभी पटवारियों द्वारा कार्य बहिष्कार किया जा रहा था, लेकिन राजस्थान सरकार व संबंधित विभाग पर कार्य बहिष्कार का कोई असर न दिखाई देने पर आज 22 नवंबर 24 को कार्य बहिष्कार किया गया. -घंटे का धरना प्रदर्शन शुरू। हो गया है। इस बीच प्रदर्शनकारी पटवारियों द्वारा मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन अनुमंडल कार्यालय को भी सौंपा गया है. जिसमें पूर्व में हुए समझौतों को लागू करने की मांग की गई है।

Rajasthan Breaking News: झालावाड़ में एसीबी की बड़ी कार्रवाई, रोजगार सहायक को 10 हजार रूपए की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

अध्यक्ष नरेश मीणा ने कहा कि पटवार संघ का प्रदेश नेतृत्व पिछले साल अपनी विभिन्न मांगों को लेकर लगातार आंदोलन करता रहा. इस आंदोलन को लेकर 3 जुलाई 2021 और 4 अक्टूबर 2021 को सरकार से लिखित समझौता हुआ था। सरकार द्वारा लिखित समझौते को अभी तक लागू नहीं किया गया है। पटवारियों के प्रदेश नेतृत्व ने जब भी सरकार के अधिकारियों से मुलाकात की तो आश्वासन ही दिया गया कि इसे जल्द से जल्द लागू किया जाएगा. ऐसे में पटवारियों में रोष है और इसी मुद्दे को लेकर 14 नवंबर से पटवारियों के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र कुमार अपने साथियों के साथ राजस्व मंडल राजस्थान अजमेर के बाहर आमरण अनशन पर बैठे हैं.

पटवार संघ के उपाध्यक्ष महावीर सिंह, महासचिव हिरदेश पाठक सहित अन्य ने बताया कि पटवारियों की 7 सूत्री मांगें हैं. जिन पर लिखित समझौता होने के बाद भी अमल नहीं किया जा रहा है। आज एक वर्ष से अधिक का समय बीत गया है। इसके विरोध में पिछले 3 दिनों से पटवारियों द्वारा कार्य बहिष्कार किया जा रहा है और विभागीय उच्चाधिकारियों को भी इसकी सूचना दी जा चुकी है, लेकिन कोई असर नहीं दिख रहा है. ऐसे में आज 22 अक्टूबर से 24 घंटे का धरना दिया जा रहा है. इस पर भी सुनवाई नहीं हुई तो और उग्र आंदोलन किया जाएगा।

Rajasthan Politics: गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष विजय बैंसला की मांग, सचिन पायलट का बनाया जाएं राजस्थान का सीएम

इस दौरान मानवेंद्र परमार, वीरेंद्र गुर्जर, महावीर सिंह, लखन बाई, रेखा, सुनीता, बनेसिंह, गौरव शांडिल्य, विश्वेंद्र सिंह, हरिओम समेत अन्य पदाधिकारी व संगठन के सदस्य मौजूद रहे.