Aapka Rajasthan
Udaipur प्रदेश का ऐसा शहर है लेक सिटी, जहां बनेंगे 2 रोपवे राज्य में फिलहाल 4 रोपवे हैं
 

उदयपुर न्यूज डेस्क, लेक सिटी राजस्थान का ऐसा शहर होगा, जहां एक नहीं, बल्कि दो रोपवे होंगे। पिछोला झील स्थित करणी माता तक जाने के लिए 2008 से रोप-वे संचालित है। दूसरा फतेहसागर झील स्थित नीमज माता के दर्शन करने की तैयारी कर रहा है। डेढ़ साल बाद इसकी शुरुआत होगी। चूंकि उदयपुर पर्यटन नगरी है इसलिए यहां एक और रोपवे शुरू किया जा रहा है। इस खूबसूरत शहर को देखने के लिए दुनिया भर से बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं। दोनों रोप-वे ऐतिहासिक झील किनारे हैं, जिनमें पर्यटक सैर के दौरान झीलों के खूबसूरत नजारों को निहार सकेंगे। यह पर्यटन विभाग का प्रोजेक्ट है, जिसके कलेक्टर ने अप्रैल 2022 में लाइसेंस जारी कर निर्माण की अनुमति दी थी.

450 मीटर लंबा होगा, 4 टावर होंगे, किराया 100 रुपए+जीएसटी
नीमज माता रोपवे की लंबाई 450 मीटर होगी। जिस पर 4 टावर लगाए जाएंगे। नीमज माता तक पर्यटकों की हवाई यात्रा के लिए रोप-वे पर एयर लिफ्टिंग के लिए चार ट्रॉलियां लगाई जाएंगी। किराया जीएसटी सहित 100 रुपये होगा। नीमज माता मंदिर स्थित फतेहसागर पाल के देवली छोर पर रोप-वे स्टेशन का निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए यूआईटी ने स्टेशन बनाने के लिए एससीईआरटी से 85 लाख रुपए में 820 मीटर जमीन खरीदी थी।

रोप-वे निर्माण में 10 करोड़ की लागत आई, 25 साल का करार हुआ
नीमज माता रोपवे के निर्माण पर 10 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसके लिए यूआईटी ने कोलकाता की दामोदर इंफ्रा लिमिटेड कंपनी को ठेका दिया है। इस कंपनी के साथ रोप-वे संचालन के लिए 25 साल का करार किया गया है। कंपनी दो साल तक यूआईटी को 90 लाख रुपये सालाना देगी। इसके बाद हर दो साल बाद 5 फीसदी पैसा बढ़ाना होगा.