Aapka Rajasthan
Tonk सिविल लाइन में सड़क चौड़ीकरण के एक तरफ तोड़फोड़ का विरोध, कलेक्टर को सौंप ज्ञापन
 

टोंक न्यूज़ डेस्क, टोंक लोक निर्माण विभाग द्वारा सिविल लाइन में किए जा रहे सड़क चौड़ीकरण कार्य का विरोध करते हुए गुरुवार को कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया. स्थानीय लोगों का आरोप है कि विभाग द्वारा सड़क निर्माण के दौरान एक तरफ से ही तोड़ फोड़ की जा रही है, जबकि नियमानुसार सड़क के बीच से चौराहे के बाद सड़क दोनों तरफ से बराबर चौड़ी होनी चाहिए. एक तरफ तोडफ़ोड़ के साथ ही सड़क के दूसरी तरफ बने भवनों व प्रतिष्ठानों से कोई छेड़छाड़ नहीं की जा रही है.

ऐसे में आक्रोशित लोग सबसे पहले जिला कलेक्ट्रेट पहुंचे, जहां उन्होंने शासन व प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए प्रशासन को ज्ञापन सौंप कर कलेक्टर से मौका मुआयना कर नियमानुसार कार्रवाई करने की मांग की. लोक निर्माण विभाग द्वारा शहर में कई स्थानों पर टूटी सड़कों की मरम्मत के साथ ही 22 करोड़ से अधिक के कार्य एक माह पूर्व शुरू किए गए थे। इसके तहत सिविल लाइन क्षेत्र में 100 लाख रुपए की लागत से 2 किमी सड़क चौड़ीकरण का कार्य किया जा रहा है। डा. आशीष सिंघल, कमलेश सैनी डाबला, सुरेश सैनी, सत्यनारायण, दीनदयाल, भाजपा ओबीसी मोर्चा जिलाध्यक्ष राजेंद्र सैनी उर्फ ​​बबलू टैंकर, मोहित, रमेश, सुरेश, रिंकू, कन्हैया, अरुण अग्रवाल, रमेश, जगदीश आदि स्थानीय लोगों ने बताया कि नागरिक बरखड़ा बाबा चौराहे से रोडवेज की गहराइयों तक जाने वाली सड़क के चौड़ीकरण और सौंदर्यीकरण के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन सड़क को चौड़ा करने के लिए नियमानुसार कार्रवाई की जानी चाहिए और सड़क के दोनों किनारों को खोदकर सड़क बनाई जानी चाहिए। लोगों का आरोप है कि रामेश्वर शिवालय से विभागीय सड़क, निजी अस्पताल से डॉ. शिखरचंद के घर तक तोड़फोड़ की जा रही है. लेकिन दूसरी ओर प्रभावशाली लोगों के दबाव में खुदाई नहीं हो रही है। साथ ही उन्होंने घरों की छतों के ऊपर से तार गुजरने से दुर्घटना की आशंका जताते हुए बिजली निगम से उसी क्षेत्र में बिजली के खंभे लगाकर दूर करने की मांग की है. सिविल लाइन क्षेत्र में सड़क चौड़ीकरण का कार्य किया जा रहा है, भेदभाव के आरोप गलत हैं, राजस्व विभाग द्वारा लगाये गये निशानों के अनुसार खुदाई की जा रही है, सारा काम नियमानुसार किया जा रहा है.