Aapka Rajasthan

Tonk में दो साल में बनेगा नर्सिंग कॉलेज भवन, हर साल 60 छात्राओं को मिलेगा प्रवेश, काम शुरू

 

टोंक न्यूज़ डेस्क, टोंक जिले को सौगात देते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को पाली जिले में आयोजित समारोह में राजकीय नर्सिंग कॉलेज एवं छात्रावास का वर्चुअल शिलान्यास किया. इसके निर्माण के लिए 21.3 करोड़ रुपये की स्वीकृति जारी की गई है। पीएमओ डॉ. बीएल मीणा का कहना है कि नर्सिंग कॉलेज भवन व छात्रावास का कार्य फरवरी 2024 तक पूरा कर लिया जाएगा. उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने वर्ष 2022-23 के बजट में टोंक जिला मुख्यालय में राजकीय नर्सिंग कॉलेज की स्थापना की घोषणा की थी. . वर्तमान में 60 छात्रों की वार्षिक प्रवेश क्षमता से संचालित एएनएमटीसी टोंक के भवन में शासकीय नर्सिंग कॉलेज सत्र 2022-23 से अस्थाई रूप से संचालित होगा। इसके लिए राजस्थान नर्सिंग काउंसिल जयपुर से मान्यता प्राप्त हो चुकी है। युसुफपुरा चरई में बनने वाले महाविद्यालय एवं छात्रावास हेतु 2.00 हेक्टेयर भूमि निःशुल्क आवंटित की गयी है। उन्होंने बताया कि निर्माण के लिए आरएसआरडीसी को कार्यकारी एजेंसी के रूप में चुना गया है। इसके द्वारा 8 नवंबर 2022 को एलओए जारी किया गया है। राजकीय नर्सिंग कॉलेज में शैक्षणिक गतिविधियों के संचालन के लिए राज्य सरकार द्वारा कुल 18 शिक्षण एवं 28 गैर-शिक्षण संकाय के पद सृजित किए गए हैं। गौरतलब है कि चार साल पहले प्रदेश में केवल 10 सरकारी नर्सिंग कॉलेज चल रहे थे, जिनकी क्षमता 830 बीएससी नर्सिंग कोर्स में हर साल प्रवेश की क्षमता थी। वर्तमान में प्रत्येक जिले में मेडिकल कॉलेज व नर्सिंग कॉलेज खोलने की नीति पर कार्य प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया. बजट घोषणा के क्रियान्वयन में प्रदेश में अब कुल 26 नये नर्सिंग कॉलेज खोले जा रहे हैं. इससे बीएससी नर्सिंग कोर्स में कुल 1560 अतिरिक्त प्रवेश क्षमता सृजित हो जाएगी। यह वर्ष 2019-20 की तुलना में लगभग दो गुना अधिक है। इस तरह प्रदेश के सरकारी नर्सिंग कॉलेजों में हर साल 2390 छात्र-छात्राएं प्रवेश ले सकेंगे।

टोंक| मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को पाली से राजकीय नर्सिंग कॉलेज के भवन एवं छात्रावास के निर्माण का वर्चुअल शिलान्यास किया. यह भवन एवं छात्रावास ग्राम युसुफपुरा चरई में 21 लाख की लागत से बनाया जाना प्रस्तावित है। इस शिलान्यास समारोह का सीधा प्रसारण देखने के लिए डॉ. भीमराव अंबेडकर खेल स्टेडियम टोंक में जिला प्रशासन एवं चिकित्सा विभाग ने समारोह की व्यवस्था की थी. जिसमें जिला प्रभारी मंत्री के आगमन की जानकारी दी गयी. लेकिन जिले के प्रभारी मंत्री नहीं आए। टोंक के खेल स्टेडियम में आयोजित लाइव टेलीकास्ट समारोह स्थल पर कांग्रेस के जनप्रतिनिधि भी नहीं पहुंचे. खेल स्टेडियम में बने पंडाल में इक्का-दुक्का लोगों के अलावा चिकित्सा विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग से जुड़ी इक्का-दुक्का महिलाएं ही नजर आईं. 2:15 बजे कलेक्टर भी वहां से चले गए। कार्यक्रम स्थल की हालत ऐसी थी कि अधिकारियों की मौजूदगी में वहां कुत्ते घूमते नजर आए। उल्लेखनीय है कि शिलान्यास कार्यक्रम के लिए दोपहर 1 बजे का समय दिया गया था. लेकिन मुख्यमंत्री ने शाम साढ़े चार बजे पाली से वर्चुअल शिलान्यास किया। यहां मौजूद इक्का-दुक्का लोग 4 घंटे देर तक इंतजार करते रहे। इस दौरान खेल स्टेडियम का लाइव कार्यक्रम देखने वालों का हाल यह रहा कि नर्सिंग छात्राओं व चिकित्सा विभाग से जुड़े कुछ कर्मचारियों के साथ सीईओ व एडीएम आदि मौजूद रहे. आयोजन की इस स्थिति को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उपमुख्यमंत्री व स्थानीय विधायक सचिन पायलट के बीच चल रही खींचतान से भी जोड़कर देखा जा रहा है.