Aapka Rajasthan
Sawaimadhopur के मैरिज गार्डन में बिजली कनेक्शन का खुला तार जाल दे रहा है हादसों को न्यौता
 

सवाई माधोपुर न्यूज़ डेस्क, सवाई माधोपुर इस समय शादियों का सीजन चल रहा है। जिससे सभी मैरिज गार्डन रोशनी से जगमगा उठे हैं, लेकिन कई मैरिज गार्डन और मैरिज होम में सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं हैं. अधिकांश मैरिज गार्डन में सुरक्षा व्यवस्था की अनदेखी से बड़े हादसे हो सकते हैं। नगर परिषद भी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर मैरिज गार्डन संचालकों के प्रति सख्ती नहीं दिखा रही है। संचालकों की ओर से आग व अन्य हादसों से बचाव पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। सवाई माधोपुर नगर परिषद क्षेत्र में छोटे-बड़े कुल 20 मैरिज गार्डन हैं। हर साल यहां नगर परिषद द्वारा सर्वे कराया जाता है, लेकिन इस बार किसी मैरिज गार्डन का सर्वे नहीं किया गया है। सर्वेक्षण के दौरान राजस्व विकास भूमि एवं अग्निशमन शाखा के प्रभारियों को शामिल किया जाता है। सर्वे में रजिस्ट्रेशन, आग बुझाने के साधन, पानी की पर्याप्त व्यवस्था, इमरजेंसी डोर, वाहन पार्किंग, साफ-सफाई और बिजली की उचित व्यवस्था जैसे बिंदुओं की जांच की जाती है, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हो सका.

करंट लगने से हो रहे हादसों को लेकर मैरिज गार्डन संचालक बेपरवाह रहते हैं। कई मैरिज गार्डन में बिजली के कनेक्शन के लिए खुले तारों का जाल है। इसके अलावा पैनल बोर्ड पर खुले तारों का जाल लगा हुआ है। सजावटी बल्बों के तार भी तारों के बीच कट बनाकर जुड़े हुए थे। ऐसे में स्पार्किंग के कारण हादसे की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है। वहीं, जिला मुख्यालय पर संचालित कई मैरिज गार्डन में आग बुझाने के कोई इंतजाम नहीं हैं. कुछ विवाह घरों में दिखावे के लिए आग बुझाने के यंत्र होते हैं। ऐसे में अगर आगजनी की घटना होती है तो समस्या खड़ी हो सकती है। वहीं नगर परिषद सवाई माधोपुर के राजस्व अधिकारी गणेश लाल का कहना है कि नगर परिषद क्षेत्र में संचालित मैरिज गार्डन में आग बुझाने की व्यवस्था, इमरजेंसी गेट, वाहन पार्किंग, साफ-सफाई व खुले तार पाए जाते हैं तो संचालकों के खिलाफ . कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में संचालकों को सख्त निर्देश दिए जाएंगे। सावो के दौरान मैरिज गार्डन का लगातार दौरा किया जाएगा।