Aapka Rajasthan

Pratapgarh में थड़ा सीएचसी पर दो चिकित्सक कर्मी, इनमें से एक चिकित्सक महीनेभर से ग़ायब

 

प्रतापगढ़ न्यूज़ डेस्क, प्रतापगढ़ जिले के थड़ा स्थित अस्पताल में चिकित्सा कर्मियों की कमी व अन्य कदाचार का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने ताला लगा दिया. करीब ढाई घंटे तक प्रदर्शन चला। सूचना पर पुलिस व चिकित्सा अधिकारी मौके पर पहुंचे और समझाइश के बाद ताला खुलवाया। चिकित्सा अधिकारियों ने ग्रामीणों को व्यवस्था में सुधार करने का आश्वासन दिया। ग्रामीणों का आरोप है कि इस अस्पताल में कभी डॉक्टर आते हैं तो कभी ताला लगा रहता है. मामूली इलाज के लिए आसपास के ग्रामीणों को प्रतापगढ़ जिला अस्पताल जाना पड़ रहा है। पिछले दिनों से ग्रामीणों को इलाज के लिए काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसके साथ ही यहां अधिकांश समय चिकित्सा कर्मी उपलब्ध नहीं रहते हैं। ऐसे में ग्रामीणों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर ताला जड़ कर प्रदर्शन किया. ग्रामीणों का आरोप है कि चिकित्सक व अन्य कर्मचारी समय पर नहीं आते हैं और स्टाफ की कमी के कारण मरीजों व उनके परिजनों को परेशानी का सामना करना पड़ता है. अस्पताल पर ताला लगाने की जानकारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में भी दी गई, लेकिन करीब 2 घंटे तक कोई नहीं पहुंचा तो मामला गरमा गया.

सूचना पर थाना प्रभारी पुलिसकर्मियों सहित जिला अस्पताल पहुंचे। कुछ देर बाद उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी भी पहुंच गए। इस दौरान आक्रोशित ग्रामीणों ने कहा कि पांच पदों में से दो डॉक्टर कार्यरत हैं. रजिस्टर में साइन रखे जाने के बावजूद एक माह से डॉक्टर नहीं आ रहे हैं। काफी देर तक ग्रामीणों के समझाने और अधिकारियों के आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने ताला खुलवाया। बाद में उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अस्पताल का निरीक्षण किया। अस्पताल के अंदर फैली गंदगी पर नाराजगी व्यक्त की। संबंधित कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया। मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी प्रतापगढ़ विष्णु दयाल मीणा ने बताया कि पूरे जिले में डॉक्टरों की कमी है, हालांकि जैसे ही नई सूची आएगी, उनमें से दो डॉक्टरों की थड़ा में पदस्थापना कर दी जाएगी. ग्रामीणों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होनी चाहिए। इसको लेकर हर संभव प्रयास किया जाएगा।