Aapka Rajasthan
Pratapgarh राजीविका प्रशिक्षण में ग्रामीण महिलाओं ने दिखाया कौशल, बनाये बैग, चप्पल और खिलौने
 

प्रतापगढ़ न्यूज़ डेस्क, प्रतापगढ़ में छोटासाड़ी के अचलपुरा गांव में बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा प्रायोजित बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान द्वारा 13 दिवसीय जूट उत्पाद उद्यमी प्रशिक्षण दिया गया. यह पहला मौका है जब संस्थान द्वारा जूट से बनी वस्तुओं पर प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षण के दौरान महिलाओं को विभिन्न प्रकार के उत्पाद जैसे हैंड बैग, हैंड पर्स, टिफिन बैग, बोतल बैग, फूलदान, पेरदान, लिफाफा, चप्पल और जूट से बने खिलौने बनाना सिखाया गया। प्रशिक्षण के दौरान महिलाओं को विभिन्न प्रकार के उत्पाद जैसे हैंड बैग, हैंड पर्स, टिफिन बैग, बोतल बैग, फूलदान, पेरदान, लिफाफा, चप्पल और जूट से बने खिलौने बनाना सिखाया गया। इससे पूर्व सिलाई, मेहंदी व अन्य प्रकार की ट्रेनिंग दी जाती थी। झारखंड की कुशल मास्टर ट्रेनर प्रीति कुमारी ने प्रशिक्षण दिया। बैंक ऑफ बड़ौदा के प्रमुख जिला प्रबंधक सुनील मौर्य मुख्य अतिथि थे। राजीविका डीएम कपिल देव, बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान के निदेशक संजय शर्मा मौजूद थे।

Pratapgarh में 291 सड़कों के लिए 6 करोड़ रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति जारी

अधिकारियों ने कहा कि महानगरों में रहने वाले लोग झूठ से बने पर्यावरण के अनुकूल सामान को बहुत पसंद करते हैं। उत्पाद लंबे समय तक रहता है। साथ ही पर्यावरण को नुकसान न पहुंचाएं। प्रशिक्षण के दौरान महिलाओं को विभिन्न प्रकार के उत्पाद जैसे हैंड बैग, हैंड पर्स, टिफिन बैग, बोतल बैग, फूलदान, पेरदान, लिफाफा, चप्पल और जूट से बने खिलौने बनाना सिखाया गया। प्रशिक्षण लेने के बाद खुद की आय बढ़ाने और दूसरों को रोजगार देने के लिए प्रोत्साहित किया। प्रशिक्षुओं को समय पर ऋण भुगतान करने के महत्व के बारे में बताया। प्रशिक्षुओं के मुद्रा ऋण आवेदन भरकर संबंधित बैंकों को भेजे जाएंगे। राजीविका के डीएम ने कहा कि हमारे देश के साथ-साथ पूरी दुनिया में हस्तशिल्प उत्पादों की मांग तेजी से बढ़ रही है, इन उत्पादों की कीमत कम और मुनाफा ज्यादा है.

Pratapgarh खेत में घास काटते समय महिला को करंट लगने से मौत, ग्रामीणों में आक्रोश