Aapka Rajasthan
Pratapgarh जिला अस्पताल में फिजियोथेरेपी की सुविधा हुई शुरू, रोजाना 25 से ज्यादा लोगों को मिल रहा लाभ
 

प्रतापगढ़ न्यूज़ डेस्क, प्रतापगढ़ जिला चिकित्सालय में फिजियोथैरेपी की सुविधा प्रारंभ की गई जो पूर्णतः निःशुल्क है। इस सुविधा से मरीजों को महंगे इलाज से मुक्ति मिलेगी। प्राइवेट में फिजियोथैरेपी कराने के लिए करीब 200 से 300 रुपए देने पड़ते हैं। जांच के बाद पैकेज में भी यही इलाज दिया जाता है। ऐसे में जिला अस्पताल में फिजियोथैरेपी शुरू होने से लोगों को महंगे इलाज से राहत मिलेगी। जिला अस्पताल में इलाज के लिए भी पर्याप्त जगह है। इसके बावजूद रोजाना 20 से ज्यादा मरीजों का इलाज किया जा रहा है। दरअसल फिजियोथेरेपी एक ऐसी पद्धति है। जो बिना दवाई के दर्द से राहत दिलाता है। फिजियोथेरेपी को फिजिक्स स्टेटमेंट भी कहा जाता है। यह चिकित्सा विज्ञान की केवल एक शाखा है। जिसमें इलाज का अलग तरीका होता है। व्यायाम, हाथ के व्यायाम, दर्द से राहत, हिलने-डुलने से दर्द से राहत मिलती है। इस थेरेपी का उद्देश्य बीमारी के कारण को जानकर डिवाइस की जरूरत को महसूस करना है। वर्तमान में जिला अस्पताल में फिजियोथेरेपिस्ट डॉ. महेश कुमार, डॉ. अमर सिंह चौहान ने सेवाएं देना शुरू कर दिया है. डॉक्टरों के मुताबिक मरीजों को इसकी जरूरत दुर्घटना के बाद हड्डी के ऑपरेशन के बाद या फिर दर्द के कारण पड़ती है।

जिला अस्पताल में नि:शुल्क इलाज की सुविधा शुरू होते ही मरीज आने लगे। फिजियोथेरेपिस्ट प्रतीक दवे ने बताया कि रोजाना 25 से 30 मरीज आ रहे हैं। एक चरण की चिकित्सा में लगभग डेढ़ घंटे लगते हैं। हालांकि, महिला फिजियोथेरेपिस्ट की कमी है। एक फिजियोथेरेपिस्ट और दो सहायक कर्मचारी भी हैं। इसके अभाव में नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं की मदद ली जा रही है। जिला अस्पताल में पहला फिजियोथैरेपी सेंटर शुरू हो गया है। जबकि पहले शहर में कोई सेंटर नहीं था। मरीजों को इलाज के लिए मंदसौर, उदयपुर, नीमच जाना पड़ता था जहां मोटी फीस चुकानी पड़ती थी. अब यहां सुविधा शुरू होने से मरीजों ने राहत की सांस ली है। प्रतापगढ़ जिला अस्पताल के फिजियोथेरेपिस्ट प्रतीक दवे ने बताया कि जिला अस्पताल में नि:शुल्क फिजियोथेरेपी सेवा प्रदान की जा रही है. फिजियोथेरेपी के दौरान छात्राएं और नर्स भी साथ रहती हैं। धीरे-धीरे यहां जगह के अलावा अन्य सुविधाएं भी बढ़ाई जाएंगी। इसकी शुरुआत अभी 10 महा से हुई है। प्रतिदिन 20 से 25 मरीज इलाज के लिए आ रहे हैं।