Aapka Rajasthan

Nagaur मंत्री ने कहा- समय कम है, अधिकारी खुले दिल से काम करें, ढिलाई नहीं चलेगी

 

नागौर न्यूज़ डेस्क, नागौर अरसे के बाद नागौर पहुंचे उच्च शिक्षा एवं प्रभारी मंत्री राजेंद्र सिंह यादव ने मंगलवार को समाहरणालय में जिला स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक ली. उन्होंने बताया कि अब समय कब बचा है। ऐसे में अधिकारी व कर्मचारी जनभावना को ध्यान में रखते हुए खुले दिल से काम करें, अब ढिलाई नहीं चलेगी। उन्होंने कहा कि अगर किसी अधिकारी के पास कोई सलाह और विचार है तो हमें बताएं, अच्छा होगा तो हम उस पर अमल करेंगे. दरअसल, समाहरणालय सभागार में आयोजित बैठक के दौरान प्रभारी मंत्री यादव ने सभी जिला स्तरीय अधिकारियों को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की बजट घोषणा में दिए गए लक्ष्यों को समय पर पूरा करने और विभागवार फ्लैगशिप में जिले की प्रगति के निर्देश दिए. योजनाएं। साथ ही कहा कि जनहित के कार्यों में नवाचार को शामिल कर राज्य सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं का क्रियान्वयन सुनिश्चित करें. शुद्ध के लिए युद्ध अभियान की समीक्षा करते हुए मिलावटी खोरों पर सख्त से सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

साथ ही जिला परिषद के पदाधिकारियों को बजरी सड़क के तहत किए गए रास्ता खोलो अभियान के तहत सड़कों को खुलवाने को कहा. यह सुनिश्चित किया जाए कि जिले के प्रत्येक पात्र व्यक्ति को शासकीय योजनाओं का लाभ मिले। विभिन्न योजनाओं के तहत विभागों में प्राप्त आवेदनों की समीक्षा करते हुए कहा गया कि अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार कर योजनाओं का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाया जाए। प्रभारी मंत्री ने बैठक के दौरान कहा कि गांधी चौक स्थित पुस्तकालय का विस्तार किया जाए. इसके लिए या तो पुराने पुस्तकालय भवन का विस्तार करें या नया स्थान आवंटित कर वहां नया पुस्तकालय बनाएं। इस दौरान कृषि, पशुपालन, बिजली, पीएचईडी, महिला एवं बाल विकास सहित विभिन्न विभागों से संबंधित योजनाओं की समीक्षा की और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए. बैठक में कलेक्टर पीयूष सामरिया ने विभिन्न योजनाओं एवं बजट घोषणाओं के संबंध में जिले की प्रगति का विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया. इस दौरान पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी, आईएएस प्रशिक्षु रवि कुमार, राज्य मंत्री केपीएस वीरेंद्र सिंह यादव, एडीएम मोहनलाल खटनावालिया, सीईओ रंजीत सिंह, डीएफओ ज्ञानचंद मकवाना, एसीईओ दिलीप कुमार, डिस्कॉम एसई एफआर मीणा, पीएचईडी एसई हिमांशु गोविल, जिला खेल अधिकारी रहे. राम सियाक सहित भंवर जिला स्तरीय अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।