Aapka Rajasthan
kota कोर्ट ने 15 दिन न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा, PMAY की अंतिम किश्त जारी करने के एवज के मांगी थी रिश्वत
 

कोटा न्यूज़ डेस्क, रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार पंचायत समिति डाग की ग्राम पंचायत सुनारी के रोजगार सहायक को आज एसीबी कोर्ट कोटा में पेश किया गया. जहां से न्यायालय ने घूसखोर रोजगार सहायक अंतिम कुमार मीणा को न्यायिक हिरासत में जेल भेजने का आदेश दिया. एसीबी के एडिशनल एसपी झालावाड़ भवानी शंकर मीणा ने बताया कि कोर्ट ने आरोपी को पांच दिसंबर को जेल भेजने का आदेश दिया है. उन्होंने बताया कि पूछताछ में आरोपी ने कमीशनखोरी के नेटवर्क के बारे में बताया है. कंप्यूटर आपरेटरों व अन्य कर्मचारियों/अधिकारियों की मिलीभगत से पहले से बने मकानों पर प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) का कर्ज ले लेते थे. इसके बदले में वे मोटा कमीशन लेते थे। शेष राशि हितग्राही को दे दी गई। एसीबी की टीम पूरे नेटवर्क की जांच करेगी।

यह मामला था

आरोपी ने ग्राम पंचायत सुनारी में रोजगार सहायक के पद पर रहते हुए प्रधानमंत्री आवास योजना की अंतिम किश्त जारी करने के एवज में शिकायतकर्ता से 30 हजार रुपये की रिश्वत मांगी थी। अंतिम रोजगार सहायक कुमार मीणा परिवादी को रिश्वत न देने पर प्रताड़ित कर रहा था। शिकायतकर्ता ने इसकी शिकायत एसीबी झालावाड़ में की। जिस पर झालावाड़ एसीबी ने शिकायत का सत्यापन कर ट्रैप कार्रवाई की। जैसे आरोपियों ने फरियादी से 10 हजार की रिश्वत ली। एसीबी की टीम ने उसे दबोच लिया। पूछताछ में पता चला कि शिकायत करने से पहले आरोपी ने शिकायतकर्ता से तीन हजार रुपये लिए थे।