Aapka Rajasthan
Karoli सावधान! साइबर फ्रॉड से बचने के लिए न खोलें कोई भी संदिग्ध लिंक, ना दे ओटीपी
 

करौली न्यूज़ डेस्क, करौली कार्यशाला का आयोजन जिला बाल संरक्षण इकाई, बाल अधिकारिता विभाग एवं प्रयास संस्था करौली की ओर से जिला मुख्यालय पर किया गया. जिसमें अपर जिला कलेक्टर परसराम मीणा ने सभी अधिकारियों से बाल संरक्षण के क्षेत्र में अपनी जिम्मेदारी निभाने का आह्वान किया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जिला श्रम कार्य बल समिति की बैठक भी हर माह होनी चाहिए। कार्यशाला में दत्तक ग्रहण, किशोर न्याय, बच्चों की देखभाल एवं संरक्षण संशोधन अधिनियम 2021 एवं बाल श्रम निषेध एवं नियमन संशोधन अधिनियम 2016 के संबंध में बाल संरक्षण से संबंधित सभी लोगों को प्रशिक्षण दिया गया। कार्यशाला में अपर जिला एवं सत्र जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, करौली की सचिव न्यायाधीश बीना गुप्ता ने बताया कि पीड़ित मुआवजा योजना के तहत पीड़ित को विभिन्न श्रेणियों में उसके प्रभाव के अनुसार आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है. ज्ााती है। इसके लिए पीड़ित या उसके आश्रितों द्वारा अपराध किए जाने की तिथि से एक वर्ष की अवधि के भीतर आवेदन करने का प्रावधान है। जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी महावीर प्रसाद नायक ने कहा कि सभी प्रखंड स्तरीय बाल संरक्षण समितियां और ग्राम पंचायत स्तर की बाल संरक्षण समितियां गठित की गई हैं. उन्होंने नियमित बैठकें आयोजित करने और बैठक की कार्यवाही का विवरण जिला स्तर पर संबंधित विकास अधिकारियों को भेजने के निर्देश दिए. वहीं प्रयास संस्था के निदेशक योगेश जैन ने प्रयास संस्था के विजन मिशन की जानकारी देते हुए बताया कि प्रयास संस्था की ओर से ग्राम पंचायत स्तरीय बाल संरक्षण समिति एवं प्रखंड स्तरीय बाल संरक्षण समितियों का आयोजन प्रयास संस्था द्वारा मुद्दों पर संवाद एवं कार्रवाई के लिये किया जा रहा है. जमीनी स्तर पर बाल संरक्षण क्षमता निर्माण के लिए उन्मुखीकरण कार्यक्रम किए गए हैं।

Karoli हिंडौनसिटी में 4 एमएम और सूरौठ में 6 एमएम बारिश, फसल खराबे की आशंका

वहीं साइबर थाना प्रभारी वीर सिंह ने कहा कि आपराधिक प्रवृत्ति वाले कुछ लोग नेटवर्किंग और सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर धोखाधड़ी करते हैं. उन्होंने आम जनता से अपील की है कि सोशल मीडिया पर अपरिचित लोगों से चैटिंग, फ्रेंड रिक्वेस्ट, दोस्ती न करें। सोशल मीडिया अकाउंट्स पर अपनी प्रोफाइल को लॉक रखें। किसी अज्ञात व्यक्ति से प्राप्त लिंक, ओटीपी, गूगल पे, पेटीएम, फोनपे, ओएलएक्स, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम, फेसबुक आदि का सावधानी से उपयोग करें। लिंक के माध्यम से ही भुगतान किया जा सकता है, भुगतान प्राप्त नहीं किया जा सकता है।

Karoli 820 गांवों में देना था नल कनेक्शन, लेकिन 400 घरों में भी नहीं लगा