Aapka Rajasthan
jodhpur सीवरेज लाइनों से निकल रहे हत्या कर डाले गए शव
 
जोधपुर न्यूज़ डेस्क, जोधपुर विकास प्राधिकरण (जेडीए) की सबसे बड़ी और महत्वाकांक्षी विवेक विहार योजना अपराधियों की शरणस्थली बनती जा रही है. कॉलोनी पूरी तरह से विकसित नहीं होने के कारण सीवरेज लाइन सूखी पड़ी है। जिसका अपराधी दुरूपयोग करने लगे हैं। हत्या या संदिग्ध परिस्थितियों में शवों को सीवरेज लाइनों में फेंक कर साक्ष्य नष्ट किए जा रहे हैं। पिछले छह साल में पांच से ज्यादा लाशें (हत्या के बाद सीवरेज लाइनों में मिली लाशें) मिल चुकी हैं। इनमें से चार लोगों की हत्या कर दी गई थी। हत्या के तीन मामले दर्ज हैं। इनमें से सिर्फ एक मामले में आरोपी गिरफ्तार हुआ है। मादा कंकाल समेत दो शवों की अभी शिनाख्त नहीं हो सकी है।
मामला एक
छह साल से शव की शिनाख्त भी नहीं
साल 2016 : विवेक विहार की सीवरेज लाइन में एक अज्ञात शव मिला था। कुड़ी भगतसनी थाने में मामला दर्ज किया गया है। छह-सात साल बीत जाने के बाद भी शव की शिनाख्त नहीं हो सकी है।
केस : 2
ब्लाइंड मर्डर : महिला का कंकाल मिला
12 अक्टूबर 2020 : विवेक विहार सेक्टर-के की सीवरेज लाइन के खुले मुख्य हॉल में एक महिला का कंकाल मिला। लंबे बाल होने से कंकाल के महिला होने की पुष्टि हुई। संगरिया निवासी जालम सिंह राजपुरोहित की ओर से कुड़ी भगतसनी थाने में अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया था. दो साल बाद भी महिला और हत्यारों की शिनाख्त नहीं हो पाई है।

मामला : 3
डीएनए से हुई पहचान, हत्या का आरोपित पकड़ा गया
7 मार्च 2021 : विवेक विहार सेक्टर-डी के खुले मैन हॉल में एक वृद्ध की लाश मिली. मामला दर्ज कर जांच शुरू की गई। डीएनए से शव की पहचान केबीएचबी सेक्टर-6डी निवासी परसाराम (60) पुत्र आसकरण के रूप में हुई है। हत्या की पुष्टि हुई। 21 जुलाई 2021 को कुड़ी भगतसनी थाना पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।
केस : 4
महिला की नग्न लाश मिली, हत्या की आशंका
22 नवंबर 2022 : विवेक विहार सेक्टर-डी में बंद मैन हॉल में एक महिला की नग्न लाश मिली। रस्सी से गला घोंटने के बाद साक्ष्य मिटाने के लिए शव को मैन हॉल में फेंक दिया। अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। शव की शिनाख्त नहीं हो पाई है।कॉलोनी अभी पूरी तरह से विकसित नहीं हुई है। निर्जन स्थान। हाल ही में यहां विवेक विहार थाना बनाया गया है। इससे अपराध की रोकथाम में सकारात्मक असर देखने को मिलेगा।