Aapka Rajasthan
Jodhpur में नए हथियार का सफल परीक्षण, भारत ने बनाया रूस की तरह स्वदेशी आत्मघाती ड्रोन
 

जोधपुर न्यूज़ डेस्क, रक्षा क्षेत्र में आयात कम करने के लिए स्वदेशी कंपनियां लगातार नए हथियार विकसित करने में लगी हुई हैं। टाटा एडवांस सिस्टम्स लिमिटेड पोकरण फायरिंग रेंज में ALS-50 लाइटनिंग मुनिशन (आत्मघाती ड्रोन) या हथियार ले जाने वाले ड्रोन का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है।

यह अत्यंत सटीकता के साथ लक्ष्य को हिट करता है। यूक्रेन की सेना रूस के खिलाफ इसी तरह के ड्रोन का इस्तेमाल कर रही है। हाल के वर्षों में ऐसे ड्रोन का उपयोग बढ़ा है। सेना में शामिल होंगे स्वदेशी ड्रोन चुपके क्षमता वाला यह ड्रोन हवा में तैरते हुए अपने लक्ष्य की ओर बढ़ता है। इसके बाद बम सीधे निशाने पर लगता है और उसे नष्ट कर देता है। इसलिए इसे सुसाइड ड्रोन कहा जाता है।

रेंज: 1000 किमी
गति: 190 किमी प्रति घंटे
ताकत: 6 घंटे लगातार उड़ान
वजन: 135 किलो