Aapka Rajasthan
Jodhpur में पुलिस की कार्रवाई पर सवाल, लूणी नदी में बजरी माफिया पर दबिश 9 डंपर व स्कॉर्पियो जब्त, 56 लाख का लगाया जुर्माना
 

जोधपुर न्यूज़ डेस्क, लूनी नदी क्षेत्र में अवैध बजरी खनन करने वालों के खिलाफ शुक्रवार को औचक कार्रवाई की गयी। जिसमें पुलिस ने बजरी से भरे 9 डंपर और 1 स्कॉर्पियो वाहन को जब्त किया है। वहीं नदी से अवैध खनन कर रहे जेसीबी व कुछ डंपर चालक मौका देखकर फरार हो गए। खनन विभाग द्वारा बजरी के अवैध खनन पर 56 लाख से अधिक का जुर्माना लगाया गया है।

कुछ दिन पहले धुंडा में अवैध बजरी खनन को लेकर माफियाओं के बीच वर्चस्व की लड़ाई में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। लूनी क्षेत्र के 12 से अधिक गांवों में प्रतिदिन अवैध खनन हो रहा है, लेकिन पुलिस नजर नहीं आ रही है।

शुक्रवार की सुबह शिकारगढ़ के सामने लूनी नदी में खुलेआम बड़े पैमाने पर अवैध बजरी खनन चल रहा था। पुलिस और खान विभाग की टीम ने मौके पर छापेमारी की। 15 डंपरों में 3 जेसीबी बजरी लोड कर रहे थे। पुलिस के पहुंचने की सूचना माफिया तक पहुंची और मौके पर पहुंचने से पहले ही नदी मार्ग से 5-6 डंपर गायब हो गए।

साथ ही जेसीबी मशीन भी पुलिस के हाथ नहीं लगी। सभी डंपर चालक व अवैध खनन करने वाले फरार हो गए। सिर्फ 3-4 ड्राइवर ही पकड़े गए। मौके पर पुलिस को बजरी से भरे 9 डंपर मिले, जिन्हें जब्त कर थाने लाया गया। लूनी थाने में मौके से जब्त पांच डंपर और एक स्कॉर्पियो को सील कर दिया गया है। साथ ही कुड़ी थाने में 4 डंपर जब्त किए गए।

जब्त डंपर का जीपीएस लॉक खोलने में लगे 5 घंटे
पुलिस व खान विभाग की टीम को मौके पर जब्त डंपर के लिए 5-6 घंटे तक इंतजार करना पड़ा। क्योंकि जब्त किए गए डंपर में लगा जीपीएस लॉक था। काफी मशक्कत के बाद ताला खोला जा सका, जिसके बाद सुबह साढ़े दस बजे कार्रवाई की गई तो डंपर शाम छह बजे के बाद थाने पहुंचे।

एक तरफ तालियां-कई दौड़े भी
पुलिस कार्रवाई की सराहना कर रही है, लेकिन हकीकत यह है कि कई डंपर भागने में सफल रहे। पूरी कार्यवाही में 56 लाख 96 हजार 125 रुपये का जुर्माना वसूल किया गया।

पुलिसवाले को नीचे गिराया
पुलिस टीम ने छापेमारी कर कई वाहनों में घुसने का प्रयास किया। इसी बीच एक पुलिसकर्मी गाड़ी में चढ़ने में कामयाब हो गया, लेकिन चालक ने पुलिसकर्मी को धक्का मार दिया और वाहन लेकर फरार हो गया।

रेक वाहन की गिरफ्तारी

निजी नंबरों वाले कई वाहन लूनी नदी के आसपास रेकिंग के लिए दौड़ते हैं ताकि सरकारी वाहन या पुलिस जीप को देखते ही अवैध खनिकों को सतर्क किया जा सके। ऐसी ही एक स्कॉर्पियो ने कार पकड़ ली, लेकिन उसमें सवार सभी लोग भाग गए।

ये सवाल उठते हैं

5-6 दिन पहले इस इलाके में हुई थी हत्या की घटना, फिर भी माफिया का जोश कम नहीं हुआ है।
पुलिस आयुक्त ने आदेश दिया था कि क्षेत्र में अवैध खनन न हो, लेकिन क्षेत्र में खुलेआम अवैध खनन चल रहा था।
जेसीबी के भागने को लेकर सवाल उठ रहे हैं, क्योंकि वह ज्यादा तेज नहीं दौड़ सकती।