Aapka Rajasthan

jodhpur सोलर प्लांट के नाम पर छह करोड़ से अधिक ठगी

 

जोधपुर न्यूज़ डेस्क, घरों या व्यावसायिक प्रतिष्ठानों की छतों पर रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाकर बिजली बिल बचाने का सपना देखने वाले लोगों की उम्मीदों पर एक कंपनी ने पानी फेर दिया है। सरकारी सब्सिडी पर सोलर प्लांट लगाने का झांसा देकर चार सौ से अधिक लोगों से छह करोड़ रुपये (सोलर प्लांट की ओर से छह करोड़ रुपये की धोखाधड़ी) से अधिक की ठगी की गयी है. सोलर प्लांट घोटाले पर 32 एफआईआर दर्ज की गई हैं। मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के बाद कई पीड़ित शिकायत लेकर थाने पहुंचने लगे हैं।एक्सईएन डिस्कॉम में कंपनी के डायरेक्टर रह चुके हैंबॉम्बे सोलर एंड विंड एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ पुलिस कमिश्नरेट, जोधपुर में अब तक 32 एफआईआर दर्ज की जा चुकी हैं। इनमें छह करोड़ रुपये से अधिक की ठगी की आशंका है। सहकारी समिति में करोड़ों रुपये के घोटाले के बाद यह बड़ा घोटाला जोधपुर में बताया जा रहा है. बिजली बिल बचाने का सपना देखने वाले आम आदमी की गाढ़ी कमाई एक बार फिर ठगी में फंस गई है। कंपनी का निदेशक व मुख्य आरोपी मूल रूप से सूरसागर में नई राकसानी हॉल कैंप के कुएं के अंदर नंदनवन ग्रीन्स निवासी धर्मेंद्र पंवार पुत्र कुनेसिंह डिस्कॉम में एक्सईएन था और वीआरएस ले चुका है.


गिरफ्तारी के बाद और भी पीड़ित थाने पहुंच रहे हैं

कंपनी के निदेशक धर्मेंद्र सिंह को गत 16 नवंबर को खांडा फालसा थाने से दिल्ली से लाया गया था। उसे तीन मामलों में गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। उसके पास से एग्रीमेंट और रिकॉर्ड बरामद हुए हैं। उसकी गिरफ्तारी के बाद कई और पीड़ित शिकायत लेकर थाने पहुंच रहे हैं.ठगी के दो और मामले दर्ज
शास्त्री नगर थाने में मिल्कमैन कॉलोनी निवासी सेवानिवृत्त कर्मचारी बाबूलाल भाटी ने मामला दर्ज कराया है. आरोप है कि पिछले साल बॉम्बे सोलर विंड पावर प्राइवेट लिमिटेड से घर की छत पर रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाने के लिए संपर्क किया गया था। सब्सिडी के तहत 5 किलोवाट का सोलर प्लांट लगाने का अनुबंध हुआ। 28 अगस्त को चेक से 1,48,690 रुपये का भुगतान किया गया। वहीं चौहाबो सेक्टर-17ई निवासी पंकज वरंदानी ने चौहाबो थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है. आरोप है कि उसने 5 किलोवाट का सोलर प्लांट लगाने के लिए 1,81,820 रुपये का भुगतान किया था। कंपनी ने प्लांट लगाने के बजाय ऑफिस ही बंद कर दिया था।