Aapka Rajasthan
jodhpur में 500 लड़कियों को फंसाया, संत के मर्डर का दावा:जोधपुर पुलिस की गिरफ्त में गैंगस्टर; फ्रेंडशिप ऐप को बनाया हथियार
 

जोधपुर न्यूज़ डेस्क, जोधपुर में दो बहनों के अपहरण मामले में पकड़ा गया आरोपी हितेंद्र पाल उत्तराखंड का कुख्यात गैंगस्टर निकला। उसके खिलाफ 17 से ज्यादा संगीन मामले दर्ज हैं।इतना ही नहीं हितेंद्र ने एक चौंकाने वाला खुलासा भी किया कि उन्होंने संत ज्ञानेश्वर की एके-47 से हत्या की थी. संत की हत्या 2006 में हुई थी।इधर, जब पुलिस ने उसके मोबाइल की तलाशी ली तो और भी चौंकाने वाले खुलासे हुए। हितेंद्र ने ऐप के जरिए 9 राज्यों की लड़कियों को अपने जाल में फंसाया है। उसकी फ्रेंड लिस्ट में करीब 500 लड़कियां थीं। इनमें से 10 से उसने शादी का झांसा देकर संबंध बनाए।जोधपुर डीसीपी अमृता दूहन ने बताया कि हितेंद्र ने पूछताछ में बताया कि वह विकलांग और सामान्य लड़कियों या कम खूबसूरत दिखने वाली लड़कियों को फंसाता था. उसने ओला पार्टी फ्रेंडशिप एप पर अंश नाम से फर्जी आईडी बनाई थी। यहां उसने पहले लड़कियों से दोस्ती की और फिर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म किया। हर बार वह अपना नाम और पहचान छुपाता था। फर्जी आईडी और अन्य दस्तावेजों के जरिए वह कई शहरों में फरार हो गया। वह लड़कियों के पैसे पर ही अय्याशी करता था।

लड़कियों के पैसे से अय्याशी
हितेंद्र लड़कियों को अपने जाल में फंसाकर उनके पैसे से अय्याशी करता था। वह किसी भी शहर में 15-20 दिन से ज्यादा नहीं रहे। वह अपनी आईडी और पहचान बदल लेता था। सोशल मीडिया पर ओला पार्टी एप पर वह खुद को बड़ा कारोबारी बताता था।उसने दिल्ली, असम, बिहार, पुणे, महाराष्ट्र, राजस्थान, जयपुर, जोधपुर, गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड के शहरों की लड़कियों को अपने जाल में फंसाया था. अपराधी इतना शातिर था कि उसने अपने नाम से कोई भी सिम या बैंक खाता संचालित नहीं किया.वह जिन लड़कियों से दोस्ती या संबंध बनाता था उनकी आईडी से सिम कार्ड लेता था और बैंक खाते खुलवाता था। वह खुद को बड़ा बिजनेसमैन बताता था। वह पहले भी कई लड़कियों को बता चुका था कि उसका लकड़ी का बड़ा कारोबार है। लड़कियों को झांसा देता था कि वह उनसे शादी करेगा और उनकी हर तरह से मदद करेगा।

ओला पार्टी फ्रेंडशिप ऐप से दोस्ती

हितेंद्र जोधपुर से दो बहनों के साथ भोपाल भाग गया था। उसने फर्जी दस्तावेज भी बनवाए थे जिसमें एक को पत्नी व दूसरी को बहन बताया। जोधपुर पुलिस जब हितेंद्र को गिरफ्तार कर भोपाल से लाई तो उन्होंने उससे कई खुलासे किए. दुहान ने बताया कि 18 नवंबर को जोधपुर के माता थाने में एक पिता ने दो बेटियों के लापता होने का मामला दर्ज कराया था.पिता ने बताया कि उनकी 21 और 16 साल की एक बेटी है। 16 नवंबर को दोपहर तीन बजे वह कहीं चली गई थी। उन्होंने अपने स्तर पर जांच की तो पता चला कि उनका किराएदार हितेंद्र पाल (43) भाग गया है। हितेंद्र की अपने लड़के से ओला पार्टी फ्रेंडशिप ऐप के जरिए दोस्ती हुई।

संत ज्ञानेश्वर हत्याकांड क्या है
सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि आरोपी ने कहा है कि वह संत ज्ञानेश्वर हत्याकांड में शामिल था और उसने एके 47 से हत्या की थी। दरअसल, 10 फरवरी 2006 को महाकुंभ से लौटते समय हादिया में संत ज्ञानेश्वर के काफिले पर हमला किया गया था। यूपी। स्वयं ज्ञानेश्वर के अलावा शिष्य नीलम, मिथिलेश, पूजा, पुष्पा, गंगा, ओमप्रकाश और रामचंद्र मारे गए। इन आठ मौतों के लिए संत के भाई इंद्रदेव ने पूर्व विधायक चंद्रभद्र और मुखिया यशभद्र को नामजद किया था. चर्चा में अखिलेश सिंह, विजय यादव, डब्बू सिंह का नाम आया। डब्बू बाद में पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था।