Aapka Rajasthan
Jhunjhunu जिले में बेबस बच्चों और 2728 परिवारों के 4 हजार 740 बच्चों को मिल रहा आर्थिक सहयोग
 

झुंझुनूं न्यूज़ डेस्क, झुंझुनूं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की पालनहार योजना असहाय बच्चों के लिए मददगार साबित हो रही है। जिले में वर्तमान समय में बहुत से बच्चे इस योजना का लाभ उठा रहे हैं, लेकिन आज भी कई बच्चे ऐसे होंगे जो इस योजना का लाभ लेने के पात्र होंगे, लेकिन जानकारी के अभाव में इस योजना का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं. . सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक अशफाक खान ने बताया कि वर्तमान में झुंझुनू जिले में 2728 परिवारों के 4 हजार 740 बच्चे पालनहार योजना से लाभान्वित हो रहे हैं. इस योजना में 0 से 6 वर्ष तक के नियमित अध्ययनरत बच्चों को 500 रुपये तथा 6 से 18 वर्ष तक के बच्चों को एक हजार रुपये प्रतिमाह दिये जाते हैं। जबकि अनाथ बच्चों को 1500 से 0 से 6 वर्ष व 6 से 18 वर्ष तक के बच्चों को 2500 रुपये प्रति माह दिया जाता है। ताकि इन बच्चों को आर्थिक सहायता मिल सके।

इस योजना में अनाथ बच्चों के पालन-पोषण, शिक्षा आदि की व्यवस्थाओं को संस्थागत करने के स्थान पर समाज के भीतर ही बच्चे के निकटतम संबंधी, परिचित, वयस्क भाई या बहन को पालक बनाकर उनकी देखभाल और पालन-पोषण के लिए आर्थिक सहायता दी जाती है। . इस योजना के तहत अनाथ बच्चे, न्यायिक प्रक्रिया द्वारा मृत्युदंड, आजीवन कारावास की सजा पाने वाले माता-पिता के बच्चे, निराश्रित पेंशन के पात्र विधवा माताओं के बच्चे, पुनर्विवाहित विधवा माताओं के बच्चे, एचआईवी/एड्स से पीड़ित माता-पिता के बच्चे, कुष्ठ रोग। प्रभावित माता-पिता के बच्चे, सिलिकोसिस से पीड़ित माता-पिता के बच्चों को सहायता प्रदान की जाती है।