Aapka Rajasthan
ALS 50 ड्रोन से दुश्मनो के उड़ेंगे छक्के, भारतीय सेना में जल्द होगा शामिल, ऊपर से जमीन पर लगाता सटीक निशाना
 

जैसलमेर के पोकरण फील्ड फायरिंग रेंज में आज एएलएस 50 ड्रोन का परीक्षण किया गया। ड्रोन कैमरे से लैस इस यूएवी बम का लद्दाख में पहले ही परीक्षण किया जा चुका है। यह एक अलग तरह का बम है जो वर्टिकल टेक-ऑफ और लैंडिंग कर सकता है। बम दुश्मन के ठिकानों का पता लगा सकते हैं और उन पर फायरिंग कर सकते हैं। इसे मेक इन इंडिया में भारत की सबसे बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है।

टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स लिमिटेड (टीएएसएल) द्वारा भारत में निर्मित, हथियार को वर्टिकल टेक ऑफ एंड लैंडिंग (वीटीओएल) के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसे संकरी घाटियों, गढ़वाले पर्वतीय स्थितियों, छोटे जंगलों और युद्धपोतों के डेक पर आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। उनके जल्द ही भारतीय सेना में शामिल होने की संभावना है। परीक्षण के दौरान, एएलएस 50 नामक प्रणाली ने एक विस्फोटक हथियार के साथ जमीन पर सटीक निशाना लगाया।

क्वाडकॉप्टर की तरह उड़ सकता है
एएलएस 50 एक यूएवी हथियार है जो क्वाडकॉप्टर ड्रोन की तरह उड़ सकता है। लंबी दूरी की उड़ान के दौरान फिक्स्ड विंग मोड में हमला कर सकता है। इसके अलावा एक स्वचालित लक्ष्यीकरण प्रणाली है। ताकि किसी खास लक्ष्य की पहचान की जा सके। पूर्व निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। सेना की आवश्यकताओं के अनुसार सीमा और भार क्षमता बढ़ाने के लिए प्रणाली को बढ़ाया जा सकता है। सेना कम कीमत वाले 'आत्मघाती ड्रोन' जैसे हथियारों को शामिल करने पर विचार कर रही है। जिसका उपयोग कमांड सेंटर, मिसाइल लांचर और दुश्मन के कवच जैसे उच्च तकनीक वाले लक्ष्यों को सटीक रूप से लक्षित करने के लिए किया जा सकता है।