Aapka Rajasthan
Election of Congress President: कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर राजस्थान सियासत में हलचल, सीएम गहलोत सोनिया गाँधी से मिलने दिल्ली हुए रवाना
 

जयपुर न्यूज डेस्क। राजस्थान में कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर सियासी हलचल देखने को मिल रहीं है। क्योंकि प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का नाम अध्यक्ष पद की रेस में आगे है। इस बीच देर रात जयपुर में कांग्रेस विधायक दल की बैठक में अशोक गहलोत ने अध्यक्ष पद पर नामांकन भरने के साफ संकेत दे दिए हैं। इस बैठक में गहलोत ने साफ कर दिया कि वह राहुल को मनाने की आखिरी कोशिश करेंगे। अगर वह नहीं राजी हुए तो फिर गहलोत खुद कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन करेंगे। प्रदेश के खाद्य आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास बताया था कि मुख्यमंत्री गहलोत कोच्चि जायेंगे और राहुल गांधी से पार्टी अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने का आग्रह करेंगे। बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि यदि उन्हें अध्यक्ष पद के ल‍िए नामांकन भरने को कहा जाता है तो वह विधायकों को सूचित करेंगे। 

उपराष्ट्रपति धनखड़ का किया गया भव्य अभिनंदन, जानिए राजस्थान से जुडी हर छोटी-बड़ी खबर बस 30 सेकंड में

01

विधायक दल की बैठक में संकेत देने के बाद गहलोत आज दिल्ली दौरे पर रवाना हो गए हैं। दिल्ली पहुंचने के बाद आज वे कोच्चि दौरे पर भी जाएंगे। इससे पहले गहलोत दिल्ली जाकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे। इस दौरान वे सोनिया गांधी से अध्यक्ष के चुनाव को लेकर चर्चा करेंगे। सोनिया से मिलने के बाद गहलोत केरल के कोच्चि जाएंगे और वहां राहुल गांधी से मुलाकात करके पूरे मामले में चर्चा करेंगे। विधयक दल की बैठक को संबोधित करते हुए अशोक गहलोत ने कहा कि मैं बुधवार को दिल्ली जा रहा हूं।  वहां राहुल गांधी को पार्टी का अध्यक्ष बनाने का अनुरोध करूंग। राहुल गांधी अगर तैयार नहीं होते हैं तो फिर नामांकन भरने की तैयारी करेंगे। सीएम गहलोत ने कहा कि नामांकन के समय आप सभी विधायकों को दिल्ली आना होगा। 

चूरू में हैंडीक्राफ्ट फैक्ट्री में लगी भीषण आग, फैक्ट्री में करीब दो करोड़ रुपए का सामान जलकर खाक

01

राहुल गांधी के अपने रुख पर कायम रहने के कारण अब 22 साल बाद कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए चुनावी मुकाबले के प्रबल आसार हैं. वर्ष 2000 में सोनिया गांधी और जितेंद्र प्रसाद के बीच मुकाबला हुआ था जिसमें प्रसाद को करारी शिकस्त मिली थी. इससे पहले, 1997 में सीताराम केसरी, शरद पवार और राजेश पायलट के बीच अध्यक्ष पद को लेकर मुकाबला हुआ था जिसमें केसरी जीते थे। वहीं, इस बार कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस नेता शशि थरूर और सीएम गहलोत के बीच मुकाबला देखने को मिल सकता है। हाल ही शशि थरूर ने सोनिया गांधी से मुलाकात की है और इससे इस बात के कयास लगाए जा रहे है कि उनको चुनाव लड़ने की अनुमति मिल गई है। हालांकि सोनिया गांधी ने इससे पहले सीएम गहलोत को इस पद की जिम्मेदारी देने की अपील की है। ऐसे में आज सीएम गहलोत सोनिया गांधी से मुलाकात कर इस संबंध में चर्चा कर सकते है।