Aapka Rajasthan

Dholpur ग्रामीणों ने ठेकेदार और ग्राम पंचायत प्रशासन पर सांठगांठ कर कम रुपए में ठेका लेने का लगाया आरोप, कलेक्टर से की शिकायत

 

धौलपुर न्यूज़ डेस्क,धौलपुर जिले की संपऊ ग्राम पंचायत का विवादों से नाता खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को ग्राम पंचायत की बैठक में सरपंच व वार्ड पंचों की मौजूदगी में सब्जी मंडी ठेका भ्रष्टाचार का शिकार हो गया. निर्धारित समय से 8 माह बाद किए गए साप्ताहिक हाट के ठेकों में धांधली को लेकर स्थानीय पंचायत फिर सुर्खियों में है। हाट के ठेकों में धांधली का आरोप लगाते हुए पंचायत की पूर्व सरपंच स्नेह लता परमार ने बताया कि साप्ताहिक सब्जी हाट निविदा प्रक्रिया के लिए सरपंच की अध्यक्षता में व वार्ड पंचों की उपस्थिति में ग्राम सभा की बैठक हुई, जिसमें दिसंबर 2022 से मार्च 2023 तक यानी 4 महीने के लिए हॉट कॉन्ट्रैक्ट की बोली लगाई गई। बोली प्रक्रिया पूरी होने से पहले ही ठेकेदार व ग्राम पंचायत प्रशासन ने मिलीभगत कर अंतिम बोली लगाने वाले ठेकेदार को 1.66 लाख रुपये का ठेका दे दिया.

उन्होंने बताया कि इस दौरान अंतिम बोली लगाने वाले ने अन्य सभी ठेकेदारों को टेंडर प्रक्रिया से अपना नाम वापस लेने के लिए पांच-पांच हजार रुपये दिए। बोली प्रक्रिया देखने पहुंचे स्थानीय लोगों ने बताया कि ग्राम पंचायत को आर्थिक नुकसान का पूरा खेल सरपंच व वार्ड पंचों की मौजूदगी में ही किया गया, जबकि सरपंच व वार्ड पंच चाहते तो ग्राम पंचायत की और कमाई हो सकती थी. 4 लाख से अधिक। साप्ताहिक हाट टेंडर में धांधली के संबंध में जिला परिषद मुख्य कार्यपालन अधिकारी चेतन चौहान व कलेक्टर अनिल कुमार अग्रवाल से शिकायत की गई है.

पिछली बार मार्च 2021 में ग्राम पंचायत प्रशासन ने 14 लाख रुपए से अधिक के साप्ताहिक हाट के ठेके दिए थे। इसके बाद अगले वित्तीय वर्ष में समय पर ठेका नहीं होने से पंचायत की सफाई व्यवस्था प्रभावित हुई. सोमवार को 4 माह के लिए ग्राम पंचायत प्रशासन ने दिसंबर से मार्च 2023 माह के हाट का ठेका कराया है. लोगों का आरोप है कि 11 ठेकेदारों ने बोली प्रक्रिया में भाग लिया था. शुरुआती चरण में खुली बोली लगाने के बाद ठेकेदार ने पंचायत प्रशासन की मिलीभगत से बोली लगाने की बजाय स्मियरिंग कर बेहद कम कीमत पर टेंडर ले लिया।