Aapka Rajasthan
Dausa अब सहकारी समिति में एक किसान को मिलेगी खाद की 5 बोरी
 

दौसा न्यूज़ डेस्क, दौसा केंद्रीय पशुपालन एवं मत्स्य पालन राज्य मंत्री संजीव बाल्यान के दौसा जिले के दौरे के बाद उर्वरक वितरण की नई व्यवस्था लागू की जाएगी. सहकारी समिति प्रति किसान केवल 5 बोरी खाद वितरित करेगी। इससे अधिक खाद प्राप्त करने के लिए किसान को जमाबंदी रिपोर्ट पटवारी से सत्यापित करवाकर जमा करनी होगी। कलेक्टर कमर चौधरी ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिले में खाद की कालाबाजारी रोकने के लिए पीओएस मशीन में डालने के बाद एसडीएम के निर्देश पर कृषि अधिकारी के सामने किसानों को खाद वितरित की जाएगी. इसके अलावा एक किसान को एक बार में अधिकतम 5 बोरी खाद दी जा सकती है, इससे अधिक होने पर किसान को जमाबंदी रिपोर्ट पटवारी से प्रमाणित करवानी होगी। कलेक्टर ने क्रय-विक्रय सहकारी समिति के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जिले को आवंटित खाद की राशि मिलते ही पीओएस मशीन में खाद की मात्रा उपलब्ध करा दी जायेगी. उन्होंने कहा कि किसी भी क्षेत्र में यूरिया और डीएपी की कालाबाजारी नहीं होने दी जाएगी. कालाबाजारी करने वाले सरकारी व गैर सरकारी वेंडरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी ताकि किसानों को उचित मूल्य पर खाद उपलब्ध हो सके.

Dausa में शॉर्ट सर्किट से होटल में लगी भीषण आग, लोगों में मचा हड़कंप

उर्वरकों के आगमन एवं वितरण पर सभी राजस्व अधिकारी क्षेत्र में संचालित खाद-बीज की दुकानों का औचक निरीक्षण करेंगे. सरकारी और गैर सरकारी उर्वरक विक्रेताओं को उर्वरकों की प्राप्ति और वितरण के रिकॉर्ड बनाए रखने के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है। कलेक्टर ने निर्देश दिया है कि उर्वरकों की कालाबाजारी की शिकायत मिलने पर क्षेत्रीय अधिकारी संबंधित दुकानदार के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे. जिले को आवंटित उर्वरकों के दैनिक वितरण में शेष उर्वरकों की जानकारी सुबह-शाम भेजी जाएगी. जिले के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में उर्वरकों की कालाबाजारी, किसानों से निर्धारित मूल्य से अधिक मूल्य वसूलने और उर्वरकों के भंडारण की सूचना मिलते ही जिला प्रशासन को कालाबाजारी पर काबू पाने में आसानी होगी. खादी जिले के निरीक्षण के दौरान सभी एसडीएम ने केवीएसएस के अधिकारियों से कहा कि वे मौके पर ही पर्याप्त मात्रा में खाद व बीज का वितरण कर पीओएस मशीन के रिकॉर्ड का भौतिक सत्यापन करें.

Dausa के बांदीकुई क्षेत्र की सबसे पुरानी रामलीला का मंचन में 20 से 60 साल के लोग निभा रहे हैं भूमिका