Aapka Rajasthan
Dausa में मूसलाधार बारिश में आकाशीय बिजली गिरने से भैंस की मौत, सड़कों भरा 53 एमएम पानी
 

दौसा न्यूज़ डेस्क, दौसा जिले में शुक्रवार को मानसून पूरी तरह से मेहरबान रहा। यहां सभी उपकरण क्षेत्रों में भारी और मध्यम बारिश हुई। जिला मुख्यालय पर सुबह 7 बजे से रिमझिम बारिश शुरू हुई, जो काफी देर तक चली, जिससे लोगों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ा. शहर के मंडी रोड समेत कई जगहों पर जलजमाव भी देखने को मिला। उधर, सरुंदला गांव में बिजली गिरने से भैंसे के जलने से भांतीदेवी सैनी की मौत हो गई. इसी तरह सिकराय अनुमंडल क्षेत्र में भी सुबह आठ बजे से दोपहर तीन बजे तक रुक-रुक कर बारिश होती रही. अनुमंडल मुख्यालय में करीब 35 मिनट तक मूसलाधार बारिश हुई, वहीं मानपुर, सिकंदरा और बालाजी इलाकों में भी बारिश थम गई. यहां 53 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई, जिससे खेतों में पानी भर गया। इसके साथ ही मानपुर और सिकराय कस्बे में जलजमाव की स्थिति देखने को मिली.

Dausa के गोपालधाम गोशाला में चिकित्सक लगाने के निर्देश

वहीं सेंथल अनुमंडल सहित आसपास के क्षेत्र में बारिश के कारण खेतों में पानी भर गया, जिससे बाजरे की फसल खराब हो रही है. किसान अपने खेतों में बाजरे की फसल काट रहे हैं, ऐसे में कटुता भी खराब हो रही है फसलों को देखकर संबंधित किसानों का कहना है कि बारिश में भीगने से बाजरे का दाना काला हो जाएगा, इससे इसकी कड़वाहट बढ़ेगी साथ ही इसकी गुणवत्ता भी खत्म हो जाएगी। बाजार में सही दाम नहीं मिलने से किसानों को नुकसान उठाना पड़ेगा, ऐसे में सरकार को गिरदावरी कराकर किसानों को मुआवजा देना चाहिए. सिकराय क्षेत्र के किसानों का कहना है कि इन दिनों बाजरे की फसल की कटाई हो रही है, लेकिन तीन दिन की बारिश के कारण कटी हुई बाजरे की फसल खेतों में भीग गई. इससे झुमके का दाना काला हो जाएगा। वहां कड़वाहट और भी खराब होने लगी है। बाजरा भी करीब 35 फीसदी खराब हो गया, जिससे अब पशुओं के चारे का संकट पैदा हो सकता है। वहीं कृषि अधिकारी ने किसानों को बाजरे में नुकसान होने पर 72 घंटे में टोल फ्री पर जानकारी देने की एडवाइजरी जारी की है. लेकिन खेतों में तैयार फसल को हुए नुकसान को देखकर किसान चिंतित हैं.

Dausa बांदीकुई मंडी में बाजरा कटौती के लिए बोली नहीं लगाई