Aapka Rajasthan
Bikaner में इंदिरा गांधी नहर टूटने से हुआ बड़ा नुकसान, लाखों रुपए की ग्वार की फसल चौपट, दो ट्यूबवेल भी हुए खराब
 

बीकानेर न्यूज़ डेस्क, इंदिरा गांधी नहर का कटाव समय से ठीक नहीं होने से खाजूवाला के किसानों को भारी नुकसान हो रहा है। नहर का पानी खेतों में पहुंचने से लाखों रुपये की ग्वार की फसल बर्बाद हो गई, वहीं दो किसानों के खेतों में लगे नलकूप भी पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। साथ ही इन किसानों को नहर विभाग से मुआवजा मिलने की संभावना भी कम है।

इंदिरा गांधी नहर की पुगल शाखा नहर में बह गई। शुरू में कटाव मामूली था, जिसके बाद किसानों ने नहर विभाग के उच्चाधिकारियों को इसकी सूचना दी. कल तक कटाव दो सौ फीट तक फैल चुका था। रात तक 300 फीट कटाव से पानी खेतों में पहुंच चुका था। शुरुआत में नहर विभाग ने काम शुरू कर दिया है लेकिन विभागीय अधिकारियों के समय पर नहीं पहुंचने से भारी नुकसान हुआ है. करीब पचास बीघा जमीन में ग्वार की फसल पूरी तरह नष्ट हो गई है। इस फसल की कीमत लाखों रुपए आंकी गई है। दो खेतों में लगे नलकूप भी अधिक पानी के कारण क्षतिग्रस्त हो गए। इस ट्यूबवेल की मोटर खराब हो गई है।

टेल किसानों के लिए पानी नहीं

बुधवार से ही आनंदगढ़, दंतौर और जीरो रोड से खाजूवाला टेल के किसानों को पानी मिलना था। बुधवार से शुक्रवार तक पानी की बारी थी, लेकिन इन तीन दिनों में पानी आगे नहीं बढ़ सका। अब किसान इन गांवों में सैकड़ों बीघा जमीन में उगाई जाने वाली ग्वार और आम की फसल की प्यास बुझाने के लिए तीन दिन के लिए जलापूर्ति बढ़ाने की मांग कर रहे हैं।

मौके पर पहुंचे डॉ. विश्वनाथ

घटना स्थल पर गुरुवार को खाजूवाला के पूर्व विधायक डॉ. विश्वनाथ मेघवाल पहुंचे। इसके बाद ही तहसीलदार व अन्य अधिकारी पहुंचे। डॉ. विश्वनाथ ने विरोध किया कि अगर समय पर नहर की मरम्मत की जाती तो किसानों को इतना बड़ा नुकसान नहीं होता। उन्होंने कहा कि अगर किसानों को मुआवजा नहीं मिला तो वे विरोध करेंगे।