Aapka Rajasthan
Bhilwara में अतिक्रमणकरियो पर बुलडोजर नहीं चलता, सिर्फ नोटिस भेजा जाता है
 

भीलवाड़ा न्यूज़ डेस्क, भीलवाड़ा नगर परिषद के लचर रवैये के कारण शहर की समस्याएं बेकाबू हैं। अतिक्रमण हो या साफ-सफाई, व्यस्त रहती है। परिषद समस्या समाधान के नाम पर नोटिस भेजकर भोजन कराती है। अतिक्रमण हटाने के हाईकोर्ट के आदेश को भी परिषद ने हल्के में लिया। भाजपा पार्षद राजेश सिंह सिसोदिया का आरोप है कि परिषद ने अवैध निर्माण व अतिक्रमण पर कार्रवाई के लिए सिविल इंजीनियर दिनेश चंद्र मीणा को शाखा प्रभारी नियुक्त किया है, जबकि इस पद पर आरआई व आकाशवाणी की नियुक्ति की जाए. नगरों के साथ अभियान के तहत जारी पट्टा जैसे अन्य शाखा में परिषद के आरआई तेजभान को लगाया गया है। इसके अलावा एक बाबू के भरोसे पर अतिक्रमण शाखा चल रही है। यहां स्वीकृत नक्शे के विपरीत परिषद से 300 मीटर दूर एक परिसर में काम चल रहा है। इसको लेकर 14 अक्टूबर को नोटिस जारी किया गया था लेकिन वहां निर्माण कार्य चल रहा है। ग्राउंड फ्लोर का निर्माण हो चुका है। इसी तरह पुराना बस स्टैंड रोड पर परिषद की जमीन पर अवैध निर्माण किया जा रहा है। इस वार्ड के पार्षद राजेंद्र पोरवाल ने परिषद आयुक्त को लिखित शिकायत की है.
25 लोगों को नोटिस जारी किया

दो दिन पहले नगर परिषद ने शहर के 25 कांप्लेक्स स्वामियों को नोटिस दिया था। इसमें बेसमेंट में पार्किंग स्थल पर बनी दुकानों को हटाने और वहां वाहनों की पार्किंग सुनिश्चित करने को कहा। इससे पहले भी दस कॉम्प्लेक्स मालिकों को नोटिस जारी किए गए थे। 5 कॉम्प्लेक्स को सीज किया। पार्षद सिसोदिया का आरोप है कि 18 जुलाई 2022 को हाईकोर्ट ने परिसर के ग्राउंड फ्लोर में पार्किंग सुनिश्चित करने के निर्देश दिए थे, लेकिन काउंसिल ने केवल नोटिस जारी कर उसे पूरा कर दिया. आगे कार्रवाई नहीं करता। जिस कॉम्प्लेक्स को सीज किया गया है। इनमें से एक कांप्लेक्स की पांच दुकानें अभी भी चल रही हैं।