Aapka Rajasthan
Barmer सिंचाई के पानी के लिए 9 दिनों से किसानों दे रहे धरना, कई दौर की वार्ता विफल
 

बाड़मेर न्यूज़ डेस्क, बाड़मेर नर्मदा नहर से सिंचाई के लिए पानी नहीं मिलने से परेशान धोरीमन्ना व गुडामलानी क्षेत्र के किसान 9 दिनों से रामजी की गोल नर्मदा नहर पम्पिंग स्टेशन पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं. प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा किसानों से कई दौर की वार्ता की गई, लेकिन सफल नहीं हो सकी। किसानों ने सरकार व प्रशासन की सद्भावना के लिए यज्ञ किया। किसानों का कहना है कि नर्मदा नहर में अधिकारियों की मनमानी के चलते बारी-बारी से सिंचाई के लिए पानी दिया जा रहा है. समय पर पानी नहीं मिलने के कारण बड़ी संख्या में किसान फसल की बुआई तक नहीं कर पाए। दरअसल, बाड़मेर जिले के रामजी की गोल नर्मदा नहर पंपिंग स्टेशन पर सिंचाई के लिए पानी नहीं मिलने को लेकर किसान 9 दिन से धरना दे रहे हैं. नर्मदा नहर विभाग के अधिकारियों ने महापड़ाव स्थल पर पहुंचकर किसानों से कई दौर की वार्ता की, लेकिन वार्ता विफल रही. इसको लेकर शुक्रवार को किसान बड़ा विरोध प्रदर्शन करने जा रहे हैं। नर्मदा नहर विभाग की ओर से किसान ने जलदाय विभाग का मोर्चाबंदी कर दिया है. इसको लेकर किसान प्रदर्शन कर रहे हैं।किसानों का कहना है कि बाराबंदी से सिंचाई बाधित हो रही है। पूंछ तक पानी नहीं मिलने के कारण कई किसान सिंचाई भी नहीं कर पाए। ऐसे में विभाग द्वारा बारबंदी के  कारण 9 दिनों में सिंचाई नहीं हो पाती है. इससे फसलों को नुकसान हो रहा है।

गुरुवार की शाम महापड़ाव में किसानों ने सरकार व प्रशासन से सदबुद्धि यज्ञ कर अपनी मांगे मनवाने की मांग की. यज्ञ में घी और नारियल चढ़ाकर भगवान बलराम से नर्मदा नहर विभाग के अधिकारियों को सद्बुद्धि देने की प्रार्थना की। किसानों का कहना है कि नर्मदा नहर विभाग के अधिकारी उनकी समस्याओं के समाधान के लिए कोई प्रयास नहीं कर रहे हैं. बाराबंदी के कारण किसानों को समय पर पानी नहीं मिल रहा है। इससे वे सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं। दो दिन पहले धरना स्थल पर एसडीएम प्रमोद कुमार, अपर मुख्य अभियंता श्रीफल मीणा सहित विभाग के अधिकारी महापड़ाव स्थल पर पहुंचे और किसानों से बातचीत की, लेकिन विभागीय अधिकारी किसानों की मांग मानने को तैयार नहीं हुए. इसको लेकर किसानों ने समाधान नहीं होने तक महापड़ाव जारी रखने का ऐलान किया है। किसानों के विरोध के बाद नर्मदा नहर विभाग के अधिकारी जागे हैं और अब उन्होंने गुजरात से 2000 क्यूसेक पानी की मांग की है. जबकि रबी सीजन शुरू होने से पहले यह तय हो जाता है कि किसानों को रबी सीजन के लिए कितने पानी की जरूरत है, लेकिन विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के चलते डिमांड नहीं भेजी गई. इससे एक हजार क्यूसेक पानी ही मिल रहा है। नर्मदा नहर परियोजना के अपर मुख्य अभियंता श्रीफल मीणा के अनुसार किसान अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे. हमने किसानों से बातचीत कर समस्या के समाधान का प्रयास किया, लेकिन किसान लगातार बारबंदी बंद कर पानी की मांग कर रहे हैं. उच्चाधिकारियों से इस बारे में बात कर समाधान निकालने का प्रयास किया जाएगा। पूर्व सांसद कर्नल सोनाराम चौधरी, भाजपा नेता सांवलाराम पटेल, किसान नेता व आरएलपी के प्रखंड अध्यक्ष गुदामलानी ताजराम सियाग, भारतीय किसान यूनियन प्रसार प्रमुख प्रह्लाद सियोल, जयकिशन भांडू, रामजी के गोल सरपंच प्रतिनिधि दिनेश खिलेरी, दबोई सरपंच हरिराम, हेमाराम चौधरी बंता, पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष राजेन्द्र शर्मा, हरदन चौधरी सहित अनेक किसान उपस्थित थे।