Aapka Rajasthan

Alwar अस्पताल परिसर में डॉक्टर ने की आत्महत्या: 7 पेज के सुसाइड नोट में लिखा- मैं अपनी असफलता से थक चुका हूं

 

अलवर न्यूज डेस्क, निजी अस्पताल परिसर के आवासीय फ्लैट में 28 वर्षीय डॉ. मनीष सैनी ने आत्महत्या कर ली. मौके से 7 पेज का सुसाइड नोट मिला है। उसमें लिखा है-

अपनी नाकामी से थक चुका हूँ, चारों तरफ से घिर चुका हूँ। रात भर सो नहीं सका। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि क्या करूं?

सुसाइड नोट में मौत के लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया गया है। डॉ. मनीष ने खुद को एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाया है। उसके कमरे से इंजेक्शन की खाली पैकिंग मिली है। पुलिस ने इसे जब्त कर लिया है। मामला अलवर के बहरोड़ का है।

गुरुग्राम के फरुखनगर निवासी डॉ. मनीष की 6-7 महीने पहले ही यहां कैलाश पार्क अस्पताल में भर्ती हुई थी। उनका गुरुग्राम से यहां तबादला हुआ था। बहरोड़ थाने के एसआई प्रदीप कुमार ने बताया कि मंगलवार सुबह साढ़े छह बजे सूचना मिली कि निजी अस्पताल के चिकित्सक ने आत्महत्या कर ली है.

उन्होंने अस्पताल परिसर में बने आवासीय फ्लैट में अपने बाएं हाथ में इंजेक्शन लगाकर आत्महत्या कर ली. इस इंजेक्शन का इस्तेमाल मरीजों को बेहोश करने के लिए किया जाता है। यह तभी लगाया जाता है जब मरीज वेंटिलेटर पर हो। बिना वेंटिलेटर के लगाए जाने पर यह घातक हो सकता है।

एसआई प्रदीप कुमार ने बताया कि सोमवार की रात डॉ. मनीष की नाइट ड्यूटी थी। मंगलवार सुबह मनीष को मीटिंग में जाना था। अस्पताल के स्टाफ ने मनीष को जगाने के लिए दरवाजा खटखटाया। काफी देर तक नहीं खुला तो दरवाजा तोड़ दिया। फिर वह बेहोश हो गया। जांच के बाद डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कमरे से एक डायरी मिली, जिसमें 7 पेज का सुसाइड नोट था।