Aapka Rajasthan
Ajmer में पेयजल संकट से देवनानी हुए गंभीर, जलदाय मंत्री को समस्या की दी सूचना, कहा - आज भी प्यासा हमारा शहर
 

अजमेर न्यूज़ डेस्क, पूर्व शिक्षा मंत्री व अजमेर उत्तर से वर्तमान विधायक वासुदेव देवनानी अजमेर में चल रहे पेयजल संकट को लेकर गंभीर हैं। विधायक देवनानी ने विधानसभा के दौरान राजस्थान सरकार के जल संसाधन मंत्री से भी बात की। उन्होंने जलापूर्ति मंत्री महेश जोशी को न केवल अजमेर के लोगों की पेयजल समस्या से अवगत कराया बल्कि इस गंभीर समस्या का जल्द से जल्द समाधान करने की भी मांग की।

जल आपूर्ति मंत्री को जानकारी देते हुए देवनानी ने कहा कि सरकार और विभागीय अधिकारियों की निष्क्रियता के कारण अजमेर में गंभीर पेयजल संकट है। पीने के पानी के लिए उपभोक्ताओं को तीन से चार दिन इंतजार करना पड़ रहा है। शहर में 24 घंटे 48 घंटे की दूरी पर भी पीने का पानी नहीं मिल रहा है। 72-96 घंटे में पानी मिल रहा है। कुछ बस्तियां और गांव ऐसे हैं जहां 5-6 दिनों में पानी बहुत कम मात्रा में मिल रहा है। देवनानी ने कहा, वार्ड 1-16 और वार्ड 60-80 की स्थिति में अधिकांश कॉलोनियों को 72-96 घंटे में भी पीने का पानी नहीं मिलता है. कई कॉलोनियों में लंबे गैप होने के कारण यहां अक्सर गंदा पानी आने की शिकायत रहती है। धीमी गति भी कुछ क्षेत्रों में एक बड़ी समस्या है जहां 5-6 दिनों के लंबे अंतराल के बाद भी पीने का पानी केवल 30 मिनट के लिए उपलब्ध है।

नलों से इतने कम दबाव में पीने का पानी आता है कि लोग अगले तीन दिनों तक पानी नहीं भर सकते। ग्राम बोराज, काजीपुरा, हाथीखेड़ा व खरेखड़ी, लोहागल व मकडवाड़ी ग्रामीण क्षेत्रों में 96 घंटे से अधिक के अंतराल पर जलापूर्ति हो रही है। विभागीय अधिकारियों को कई बार समस्या से अवगत कराने के बाद भी उनके कानों पर जूं भी नहीं उड़ती। बीसलपुर बांध के तीसरे चरण के निर्माण को लेकर भी सरकार गंभीर नहीं है। सरकार ने इस संबंध में कोई ठोस योजना बनाने की दिशा में एक भी कदम नहीं उठाया है। देवनानी ने मंत्री से मांग की कि भविष्य में 48 घंटे के भीतर और 24 घंटे के भीतर पेयजल आपूर्ति में लापरवाही करने वाले विभागीय अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए और पेयजल संकट का समाधान किया जाए।
अजमेर अभी भी प्यासा है

मंत्री को जानकारी देते हुए देवनानी ने कहा कि यह सच है कि बीसलपुर बांध अजमेर के लिए बनाया गया था। उम्मीद थी कि अजमेर को 24 घंटे पानी मिलेगा, लेकिन हुआ उल्टा। अजमेर, जिसके लिए इसे बनाया गया था, प्यास से मर रहा है और अन्य जिलों में प्रतिदिन भरपूर पानी की आपूर्ति की जाती है। अजमेर के साथ सौतेली मां की तरह व्यवहार किया जा रहा है, जिससे जनता में आक्रोश है। लोगों का धैर्य अब रंग ला रहा है कि शहरी इलाकों को 48 घंटे में भी पानी नहीं मिलेगा।