Aapka Rajasthan
Udaipur में मौसमी बीमारियों का बढ़ा प्रकोप,18 दिनों में डेंगू के 45 केस आए सामने, डेंगू और स्कब टाइफस से परेशान
 

उदयपुर न्यूज़ डेस्क, उदयपुर में लोग मौसमी बीमारियों के साथ-साथ डेंगू के मच्छर के काटने से भी परेशान हैं। एमबी अस्पताल समेत सभी अस्पतालों में डेंगू और स्क्रब टाइफस के मरीजों की संख्या सबसे ज्यादा है। अगस्त माह में डेंगू के 37 मरीज थे, सितंबर के 18 दिन में 45 डेंगू के मरीज आए हैं। इससे पहले जुलाई में डेंगू के 9 मरीज सामने आए थे। अब तक स्कैब टाइफस के 66 मामले भी सामने आ चुके हैं, जबकि पूरे अगस्त महीने में 79 मामले सामने आए हैं। सितंबर माह में डेंगू के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने सतर्कता बढ़ा दी है।

दो दिन पहले हुई बारिश से सुबह-शाम ठंड बढ़ गई है। वहां दिन गर्म होने लगे हैं। इस मौसम में सबसे ज्यादा सर्दी-जुकाम, खांसी के मरीज आ रहे हैं। सांस और छाती में संक्रमण वाले लोग कोरोना वायरस के प्रति संवेदनशील हैं। सीएमएचओ ने सभी सीएचसी और पीएचसी को मौसमी बीमारियों जैसे डेंगू, स्क्रब टायफस, मलेरिया आदि के संभावित मरीजों की पहचान कर तत्काल दवाएं लेने के निर्देश दिए हैं। जानकारी के मुताबिक सितंबर में मलेरिया के 18 मरीज सामने आए हैं जबकि अगस्त में 27 मरीज सामने आए हैं।

सीएमएचओ डॉ. एसएल बामनिया ने कहा कि जिला अस्पतालों को दवाओं का स्टॉक पूरा रखने को कहा गया है। डेंगू से बचाव के लिए बुखार होने पर जल्द से जल्द जांच कराने और दवा लेने की सलाह दी जाती है। यदि आपको डेंगू है, तो एलिसा परीक्षण से इसकी पुष्टि करें। डेंगू मरीजों की निगरानी संभावित स्क्रब टायफस और डेंगू के मरीज पिछले दस दिनों से रोजाना आ रहे हैं। अस्पताल प्रशासन को भी निर्देश दिया गया है कि बुखार के हर मरीज की स्लाइड ली जाए।
सर्दी के साथ खांसी और बुखार होने पर भी मरीजों की जांच की जा रही है। मरीजों की स्क्रीनिंग ए. बी और सी वर्ग वार। निमोनिया के मरीजों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। मच्छर मारने की गतिविधियां शुरू कर दी गई हैं। इस मौसम में स्क्रब टाइफस के मरीज बढ़ जाते हैं।