Aapka Rajasthan

Rajsamand निगम के कार्मिकों ने भरी हुंकार, अगस्त में जयपुर में घेराव

 
Rajsamand निगम के कार्मिकों ने भरी हुंकार, अगस्त में जयपुर में घेराव
राजसमंद न्यूज़ डेस्क, राजसमंद राजस्थान विद्युत तकनीकी कर्मचारी एसोसिएशन के तत्वावधान में कांकरोली उपखंड अध्यक्ष शेरसिह पंवार के नेतृत्व में उपखंड अधिकारी एवं अधीक्षण अभियंता के मॉर्फत मुयमंत्री को निगमों मे व्याप्त विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। उन्होंने ज्ञापन में पुरानी पेंशन योजना लागू करने, इन्टर डिस्कॉम स्थानान्तरण, आरजीएसएस योजना को राज्यकर्मियों के समरूप लागू करवाने, आईटीआई धारकों को टाइम बाउन्ड प्रमोशन, हार्ड ड्यूटी अलाउन्स आदि लागू करवाने की मांग की। मांग पूरी नहीं होने पर 24 जुलाई को जिला मुयालय एवं 21 अगस्त को जयपुर में विद्युत भवन का घेराव किया जाएगा।

सहायक अभियंता को दिया ज्ञापन

आमेट बिजली निगम के कार्मिकों ने बुधवार को चेयरमैन डिस्कास बिजली निगम जयपुर के नाम सहायक अभियंता उमेश कुमार दुबे को देकर निगम के कार्मिकों के लिए पुरानी पेंशन योजना के अन्तर्गत जीपीएफ खाता आवंटित करने एवं सीपीएफ कटौती बंद करने की मांग की गई।ज्ञापन में बताया कि राज्य सरकार की ओर से राज्य के पांचों बिजली निगमों के कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना लागू करने के आदेश जारी किए गए हैं। इस आदेश के तहत पुरानी पेंशन योजना का विकल्प चुनने वाले सेवानिवृत कर्मचारियों के जीपीएफ खाता संया आवंटित कर पेंशन जारी की चुकी है।

वहीं, 2023 के बाद नियुक्त कार्मिकों के भी जीपीएफ खाता आवंटित कर दिए गए हैं। लेकिन, सेवारत कर्मचारियों की सीपीएफ कटौती बंद नहीं की गई एवं ना ही जीपीएफ खाता नबर आवंटित किए गए हैं। इससे कर्मचारियों में निगम प्रबन्धन के प्रति गहरा आक्रोश व्याप्त है। बताया कि विधिक रूप से पांचों निगमों में पुरानी पेंशन योजना लागू की जा चुकी है, लेकिन वर्तमान स्थिति में सीपीएफ कटौती बंद करने एवं जीपीएफ खाता आवंटित करने का निगम प्रबन्धन द्वारा कोई निर्णय नहीं किया गया है। इससे कर्मचारियों में असंतोष एवं आक्रोश व्याप्त है। इसको लेकर कार्मिकों की मांगों पर जल्द निर्णायक कार्यवाही करने की मांग की गई। इसके साथ ही कार्यवाही नहीं होने पर 24 जुलाई.को जिला मुयालय पर प्रदर्शन करने की चेतावनी दी गई। इस दौरान अध्यक्ष हाकिमसिंह गुर्जर, राजाराम सैनी, हरिराम वर्मा, दिनेश रेगर, सुनील कटारिया, भगवत प्रसाद, सुनील मेहरा, महेंद्र रेगर, भगवान सिंह गुर्जर, शंकर रेगर, बनवारी लाल गुर्जर सहित कार्मिक मौजूद थे।