Aapka Rajasthan

Bikaner वर्ष 14 में साईं कृषि फार्म में हुई थी घटना, अब जाकर हुआ फैसला

 
Bikaner वर्ष 14 में साईं कृषि फार्म में हुई थी घटना, अब जाकर हुआ फैसला 
बीकानेर न्यूज़ डेस्क, बीकानेर अपर सत्र न्यायाधीश संख्या तीन के पीठासीन अधिकारी महावीर महावर ने 9 साल पहले सांई कृ​िष फार्म पर फावड़े से वार कर जयसिंह की हत्या करने के आरोपी को आजीवन कारावास और अर्थदंड की सजा सुनाई है। 22 जुलाई, 14 को जोधपुर-श्रीगंगानगर बाइपास पर सांई कृ​षि फार्म पर छत्तरगढ़ निवासी गुरमीतसिंह मजबीसिख ने जयसिंह की गर्दन पर फावड़े से हमला किया जिससे वह जमीन पर गिर गया। उसके बाद गुरमीत ने लगातार वार कर जयसिंह की हत्या कर दी। जयसिंह के साथी दौड़ कर आए तो गुरमीत मौके से फरार हो गया। कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के बाद गुरमीत ​को दोषी माना और उसे आजीवन कारावास व 25,000 रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई है। अर्थदंड की रा​शि जमा नहीं कराने पर उसे 6 माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। अभियोजन पक्ष की ओर से कोर्ट में 17 गवाहों के बयान हुए। राज्य की ओर से पैरवी संपूर्णानंद व्यास ने की। कोर्ट ने पीड़ित प्रतिकर स्कीम में जयसिंह के वारिसों को मुआवजा देने की अनुशंसा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण से की है।

फार्म हाउस की फेंसिंग को लेकर हुआ था झगड़ा

परिवादी भंवरसिंह की ओर से बीछवाल थाना पुलिस को दी रिपोर्ट दी गई थी। 22 जुलाई, 14 को जयसिंह, विक्रमसिंह, सुरेन्द्रसिंह जयपुर-श्रीगंगानगर बाइपास पर सांई कृ​षि फार्म में कमल नायक के पास गए थे। कृ​षि भूमि हरिसिंह यादव की थी जिसमें कमल मुनीम का काम करता था। भंवरसिंह और ये सभी लोग आपस में बात कर रहे थे। इस दौरान वहां काम करने वाला गुरमीत​सिंह आया और कमल से फार्म हाउस की फेंसिंग के रुपए मांगे। इस बात को लेकर गाली-गलौज और झगड़ा हो गया। इस दौरान उसने फावड़े से जयसिंह पर हमला कर दिया जिससे उसकी मौत हो गई।