Aapka Rajasthan
Bikaner बीकानेर निगम के पास 61.82 करोड़ का बजट: विकास के लिए निगम को मिले 103 करोड़, खर्च हुआ 41.5 करोड़
 

बीकानेर न्यूज डेस्क,  करीब 20 विभिन्न मदों के लिए नगर निगम को इस साल राज्य और केंद्र से 103 करोड़ रुपये मिले। 41.5 करोड़ रुपए खर्च किए गए। दूसरे बजट से बार-बार पांच बड़ी घोषणाएं की जा रही हैं, लेकिन खाते में 61.82 करोड़ रुपये आने के बाद भी 13 करोड़ रुपये की पांच घोषणाएं अब तक पूरी नहीं हो पाई हैं.

नगर निगम का बजट भाषण पढ़ा जाए तो लगता है कि अब शहर का पूरी तरह कायाकल्प हो जाएगा। घोषणाओं की लंबी फेहरिस्त के साथ बजट भी बताया जाता है। बजट न होने के कारण कई बार घोषणाएं अधूरी रह जाती हैं। इस बार निगम के पास बजट है लेकिन उसका उपयोग घोषणाओं को पूरा करने में नहीं हो रहा है। इस वित्तीय वर्ष में निगम को विभिन्न मदों से करीब 103 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं। निगम ने 41.50 करोड़ रुपए खर्च किए। लेकिन पार्षदों के लिए लैपटाप, पिंक बस, मेयर हाउस, नगर निगम के नए भवन व विद्युत शवदाह गृह का निर्माण अब तक नहीं हो सका. इन पर 12 से 13 करोड़ रुपए ही खर्च किए जाने हैं।

बड़े प्रोजेक्ट पर काम नहीं, हो रहे विवाद नगर निगम के पास नए प्रोजेक्ट हैं, उन पर काम बंद है, लेकिन प्रोजेक्ट चल रहे हैं, उन पर भी हंगामा हो रहा है. सीवरेज, कूड़ा उठाव, सड़कें, सफाई मुख्य काम हैं, वह अधर में हैं। आवारा पशुओं को पकड़ने का काम बंद है। टेंडर भी नहीं हुआ। अब आवारा पशु गौशाला में हैं, उन्हें भी बाहर फेंका जा रहा है। आवारा कुत्तों की नसबंदी का काम बंद कर दिया गया है। सीवरेज टेंडर का मामला डीएलबी में लंबित है। ट्रैक्टरों का टेंडर नहीं हुआ था। कूड़ा कलेक्शन का काम चल रहा है लेकिन एमआरपी प्लांट तैयार नहीं हो रहा है, ताकि जमा कूड़ा निस्तारण किया जा सके।