Aapka Rajasthan

Banswara एलएचवी-एएनएम ने पदनाम और वेतनमान में बदलाव के लिए लामबंदी की

 

बांसवाड़ा न्यूज़ डेस्क, बांसवाड़ा लंबे समय से दो मांगों को लेकर संघर्ष कर रहे चिकित्सा विभाग के एलएचवी व एएनएम अब सुनवाई नहीं होने पर धरना-प्रदर्शन का रास्ता अपनाएंगे. यह घोषणा राजस्थान के एलएचवी, एएनएम संघ की जिला इकाई के प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजे ज्ञापन में की. संघ के जिलाध्यक्ष कांकू खांट के नेतृत्व में दिये गये ज्ञापन में बताया गया कि महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता अर्थात एलएचवी को लोक स्वास्थ्य परिचारिका अधिकारी एवं महिला स्वास्थ्य आगंतुक का पद देने से सरकार पर कोई वित्तीय भार नहीं पड़ेगा. एलएचवी - सीनियर सर्किल हेल्थ नर्स ऑफिसर। बावजूद इसके संगठन की मांग को अनसुना किया जा रहा है। इसके अलावा इन पदों के लिए 12वीं पास करने के बाद दो साल के प्रशिक्षण से प्री डी.एल.एड की अवधि पूरी होती है, जो तृतीय श्रेणी शिक्षक के समकक्ष है। इसके बाद भी सरकार इन शिक्षकों के बराबर ग्रेड ड्रिंक नहीं दे रही है। इसलिए संगठन अपनी मांग को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहा है। इसके लिए आने वाले दिनों में धरना-प्रदर्शन किया जाएगा। ज्ञापन में संघ की जिला कोषाध्यक्ष नसरीन बी, प्रीतम हाड़ा, सरोज आदि शामिल थे।

खोदान। ग्राम पंचायत सुजाजी का गढ़ा के बरोदिया गांव में सूर्य माता मंदिर के समीप विद्युत निगम द्वारा स्वीकृत कार्य अधूरा होने से समस्या बढ़ती जा रही है. ग्रामीणों ने इसे पूरा कर बिजली की समस्या से निजात दिलाने की मांग की है। ग्रामीणों ने बताया कि यहां काम अधूरा है। भवन और खंभे खड़े कर दिए गए हैं, लेकिन बिजली संयंत्र नहीं लगाए गए हैं। यह काम पूरा होने के बाद लाइन शुरू होने पर बाई का गढ़ा, बरोदिया नदियाडा बाड़ा, छोटा, कोटरा सहित आसपास के गांवों को नियमित बिजली आपूर्ति हो सकेगी. ग्रामीणों ने बताया कि पलौदा जीएस से इस लाइन की दूरी होने के कारण शार्ट सर्किट सहित अन्य समस्याएं बनी रहती हैं. ऐसे में अधूरे काम को जल्द पूरा कर लेना चाहिए। कनीय अभियंता ध्वनित जोशी ने बताया कि निगम के उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है, उपकरण प्लांट आते ही गांव में लाइन डालने का कार्य किया जाएगा.