Aapka Rajasthan

Ajmer 20 बकरियों का वजन ज्यादा बताकर युवक से 76250 रुपए ज्यादा वसूले, केस दर्ज

 
Ajmer 20 बकरियों का वजन ज्यादा बताकर युवक से 76250 रुपए ज्यादा वसूले, केस दर्ज 
अजमेर न्यूज़ डेस्क, अजमेर  कोटा निवासी एक व्यक्ति ने अजमेर स्थित गोट फार्म से 20 बकरियां खरीदीं और उनके वजन के हिसाब से 2.53 लाख रुपए का भुगतान कर दिया। कोटा पहुंचकर जब खरीदार ने बकरियों का वजन किया तो उसमें 305 किलो वजन कम निकला। पीड़ित ने फर्म विक्रेता के खिलाफ धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए 76 हजार रुपए ज्यादा वसूलने की बात कही है। क्रिश्चियनगंज थाना पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। कोटा के नया गांव स्थित आरके पुरम निवासी कृष्णचंद ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि 21 अगस्त को उन्होंने क्रिश्चियनगंज थाना क्षेत्र स्थित एमजे गोट फार्म से 20 बकरियों की खरीद की थी। बकरियों का वजन विक्रेता शानू ने 1015 किलो बताया था। 250 रुपए प्रति किलो की दर से कृष्णचंद ने 2,53,750 रुपए का भुगतान कर दिया।

इसके बाद जब वह बकरियां लेकर कोटा पहुंचा तो उसने वहां धर्मकांटे पर दोबारा गाड़ी का वजन किया तो वजन में 305 किलो का अंतर सामने आया। कृष्णचंद के मुताबिक इतना वजन कम होने के बाद भी विक्रेता शानू ने उनसे 76250 रुपए अतिरिक्त ऐंठे हैं। पीड़ित ने इसकी शिकायत क्रिश्चियनगंज थाने में की। पुलिस ने बकरी विक्रेता शानू के खिलाफ धोखाधड़ी की धारा 420 के तहत रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

डिस्कॉम: 2 दिन में 242 जगह बिजली चोरी पकड़ी

अजमेर |अजमेर विद्युत वितरण निगम ने बिजली चोरों के खिलाफ छापामार कार्यवाही करते हुए 242 बिजली चोरियां पकड़ी। चोरों पर 66.24 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया। िनगम के प्रबंध निदेशक एनएस निर्वाण ने बताया कि जिले में विद्युत चोरी के 13 प्रकरण, राजस्व 3.36 लाख,भीलवाड़ा, में 22 प्रकरण, राजस्व 5.93 लाख, नागौर ,में 2 प्रकरण, राजस्व 75 हजार, झुंझुनूं ,में 42 प्रकरण, राजस्व 14.58 लाख, सीकर में 17 प्रकरण, राजस्व 9.31 लाख, चित्तौड़गढ़ में 68 प्रकरण, राजस्व 7.86 लाख, बांसवाड़ा में 6 प्रकरण, राजस्व 4.29 लाख, राजसमंद में 8 प्रकरण, राजस्व, 1.66 लाख और उदयपुर में 64 प्रकरण,जिसका राजस्व 18.51 लाख निर्धारित किया गया। निर्वाण ने बताया कि अभियान को गति दी जाएगी,जिससे विद्युत छीजत में कमी लाते हुए लक्ष्यों को हासिल किया जा सके। िवद्युत चोरी के मामले में उपभोक्ता अगर जुर्माना राशि जमा नहीं करवाते हैं तो एफआईआर दर्ज की जाएगी।